0

जिंदगी क्रूर है, जितनी जल्दी इस सच को पहचान लें आप इसका मुकाबला करने के लिए तैयार हो जाएंगे

शुक्रवार,सितम्बर 17, 2021
0
1
चेतना भाटी का हाल में प्रकाशित उपन्यास चंद्रदीप सहज स्त्री भावनाओं की अभिव्यक्ति है। उपन्यास बहुत बड़े कैनवास पर नहीं रचा गया है किंतु उसमें भी जिस तरह से विभिन्न भावनाओं को दर्शाया गया है वह सहज ही जेन ऑस्टीन की शैली को याद दिला देता है।
1
2
हम बात कर रहे हैं Sun Tzu, The Art of War (सन त्ज़ु, द आर्ट ऑफ़ वार) की, यह किताब सन त्ज़ु के द्वारा लिखी गई थी। यह किताब उस जमाने की सेना के युद्ध पद्धति और सैन्य तौर-तरीकों पर आधारित है, लेकिन यह किताब आज भी उतनी ही प्रासंगिक है जितनी 2500 साल ...
2
3
मनुष्य जीवन और रिश्ते अत्यंत जटिल होते हैं। मनोविज्ञान के अनुसार परिस्थिति के, सोच के, वातावरण के, मनुष्य के साथ हुए अन्याय के, उसके साथ हुए व्यवहार के, उसके स्वभाव, वंशाणु और अनुवांशिक ऐसे कई मनोवैज्ञानिक कारण हैं जो मनुष्य के मन और मस्तिष्क पर ...
3
4
सौ साल पहले बनारस में जन्में इस महान सितार वादक की विरासत में गहन सांगितिक परिवेश शामिल था। उनके पिता एक संगीतज्ञ तथा दार्शनिक थे, जिन्होंने औपनिवेशिक काल में कोवेंट गार्डन लंदन में प्रस्तुति दी थी। बडे़ भाई उदय शंकर उस दौर के एक प्रतिष्ठित नर्तक ...
4
4
5
लेखिका ज्योति जैन साहित्य संसार में तेजी से लेकिन सरलता से उभरता वह चमकता नाम है जिसने साहित्य की लगभग हर विधा में स्वयं को सुव्यक्त किया है। वे जब लघुकथा लिखती हैं तो उनका प्रभाव
5
6
प्रताप सोमवंशी साहित्य की दुनिया के चिरपरिचित हस्ताक्षर हैं। जब उनकी कृति इतवार छोटा पड़ गया प्रकाशित हुई तो कई पाठक पढ़कर इसी तरह चौंके कि अरे यह शेर तो खूब सुना है पता नहीं था कि प्रताप सोमवंशी का है। प्रताप खुद कहते हैं कि जब उनके शेर इस कदर ...
6
7
कवयित्री ज्योति जैन के काव्य-संग्रह 'मेरे हिस्से का आकाश' ने साहित्य-संसार में सुनहरी संभावनाओं के साथ दस्तक दी है। इस काव्य-संग्रह में 101 विविध रंगी कविताएं संयोजित की गई है। संग्रह की भूमिका वरिष्ठ कवि अशोक चक्रधर ने लिखी है।
7
8
उपनिषद का सरल-सुबोध शैली में परिचय और भाषा का प्रवाह पाठक को आकर्षक ढंग से पुस्तक से जोड़े रखता है। यह लेखक की उपलब्धि कही जाएगी कि वे युवा पीढ़ी तक पुरातन पवित्र संस्कृति को पहुंचाने के अपने शुभ उद्देश्य में कामयाब रहे हैं।
8
8
9
पुस्तक के द्वारा दिलचस्प अंदाज में जाना जा सकता है कि महान गणितज्ञों की अभिरूचियां और सोच किस तरह से असाधारण थी।
9
10
'समकालीन कहानी का स्त्री पक्ष' 'लमही' के संपादक विजयराय के संपादन में अनन्य प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित 471 पृष्ठों की एक वृहद आलोचनात्मक पुस्तक है। इस पुस्तक में हिन्दी की वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्‌गल, ममता कालिया, मृदुला गर्ग, मंजुल भगत और ...
10
11
क़िताब डायरी शैली में ही लिखी गई है,जिसमें लेखिका डायरी से ही हॉस्टल की बातें करती हैं। डायरी 26 जून 1999 की रात में लिखे गये पहले पन्ने से शुरू होकर 12 दिसंबर 2003 के आख़िरी पन्ने तक करीब 5 साल का सफ़र तय करती है। इस दौरान पाठक 'स्वराजंलि वर्किंग ...
11
12
संस्कृत भाषा को संसार की प्रथम भाषा और ऋग्वेद को प्रथम ग्रंथ माना जाता है। दुनिया की प्रथम भाषा का पहली बार किसी ने सुव्यवस्थित व्याकरण ग्रंत लिखा था तो वह थे महर्षि पाणिनि। उन्होंने अष्टाध्यायी नामक ग्रंथ लिया। आओ जानते हैं इस ग्रंथ के बारे में।
12
13
कार्टूनिस्‍ट प्राण की पत्‍नी आशा प्राण ने यही दिलचस्‍पी बढ़ाई है। उन्‍होंने हाल ही में प्राण पर एक किताब लिखी है। नाम है ‘मेरी नजर में प्राण’ बोर्ड पेंटर से पद्मश्री तक का सफर।
13
14
आज सारी दुनिया मानसिक स्वास्थ्य के संकट की चपेट में है, विश्व में अवसाद, चिंता और गहन तनाव से ग्रस्त लोगों की संख्या बढ़ रही है, ऐसे में अधिक से अधिक लोग अपने सवालों का जवाब भीतर तलाश रहे हैं। एक ऐसी यात्रा पर जाने के लिए जो आत्मा की तरह अमूर्त है, ...
14
15
कालखंडों की अनवरत श्रंखला में सदैव ज्ञान गुरु के रूप में प्रतिष्ठित हमारा देश भारतवर्ष आज भी अपने नामकरण के आधार को तलाश रहा है। हमारे देश का नाम भारत कब क्यों और कैसे पड़ा इस विषय पर आज भी सत्य को नकारा जा रहा है।
15
16
समाज की 4 बड़ी बुराइयां,4 युवतियां और उनकी 4 अधूरी कहानियां....'चार अधूरी बातें' युवा लेखक अभिलेख द्विवेदी का लघु उपन्यास है। अधूरी इसलिए क्योंकि अभिलेख के अनुसार पूरापन सब लिखते हैं। बिना किसी पूर्व भूमिका के उपन्यास संदली नामक किरदार से आरंभ होता ...
16
17
रात के अंधेरे में जीवन के गहरे रहस्य छुपे होते हैं। जीवन भी कई बार निराशाओं और अवसाद की काली रात से गुजरता है, लेकिन उस रात के बाद आने वाला एक चमकता दिन आपकी दिशा तय करता है
17
18
1981 के आसपास लिखी गई इस किताब में एक संक्रमण का जिक्र है और इसे वुहान 400 का ही नाम दिया गया है। यानी आज से करीब 40 साल पहले उस वायरस के बारे में लिए किताब में जिक्र कर दिया गया था। एक अमेरिकी की यह कृति शुरु तो एक ऐसी मां से होती है जो अपने बच्चे ...
18
19
'सरहदों के पार दरख़्तों के साये में' यानी प्रकृति के सान्निध्य में। रेखा भाटिया अमेरिका की उभरती युवा कवयित्री है और शार्लेट शहर में रहती हैं। दरख्तों से घिरी ख़ूबसूरत वादी जैसे शहर में, कथक नृत्य करती हैं और चित्रकला से बहुत प्यार है। स्कूल में ...
19