0

शापित योद्धा से दानवीर, फिर मृत्युंजय बने महावीर कर्ण से सीखिए 6 गुण

शनिवार,अक्टूबर 16, 2021
0
1
इस लेख में हम चर्चा करेंगे, स्टीव जॉब्स की बायोग्राफी "Steve Jobs" पर। यह अमेरिकी बिजनेस मैग्नेट और एप्पल इंक के संस्थापक स्टीव जॉब्स की अधिकृत बायोग्राफी है। इसे जॉब्स के अनुरोध पर CNN और TIME के पूर्व कार्यकारी वॉल्टर इसाकसन द्वारा लिखा गया था, ...
1
2
हम बात कर रहे हैं Sun Tzu, The Art of War (सन त्ज़ु, द आर्ट ऑफ़ वार) की, यह किताब सन त्ज़ु के द्वारा लिखी गई थी। यह किताब उस जमाने की सेना के युद्ध पद्धति और सैन्य तौर-तरीकों पर आधारित है, लेकिन यह किताब आज भी उतनी ही प्रासंगिक है जितनी 2500 साल ...
2
3
हमारी चिर-परिचित हदों-सरहदों को नकारते लांघते। जाना-पहचाना भी बिलकुल अनोखा और नया है यहां। इसका संसार परिचित भी है और जादुई भी, दोनों के अन्तर को मिटाता। काल भी यहां अपनी निरन्तरता में आता है। हर होना विगत के होनों को समेटे रहता है,
3
4
इस पंक्‍ति की गहराई में जो अर्थ छुपा है वो यही कहता है कि आप किसी चीज को अपने दिल, दिमाग और अपनी पूरी आत्‍मा से चाहोगे तो यह सृष्‍ट‍ि, यह प्रकृति या यह कुदरत भी उसे हासिल करने में आपकी पूरी मदद करने लगेगी। फि‍र चाहे वो कोई इरादा हो, कोई मकसद या फि‍र ...
4
4
5
लमही पत्रिका प्रेमचंद और उनकी विरासत से जुड़ी प्रतिबद्धता के लिए सदैव जानी जाती रही है। लमही के प्रमुख विशेषांक श्रृंखला में सारा राय के बाद अमृतराय जन्मशताब्दी विशेषांक अत्यंत महत्वपूर्ण है। महत्वपूर्ण इन अर्थों में है कि अभी तक किसी भी पत्रिका ने ...
5
6
इला कुमार ने भी कविताओं की अपनी किताब ‘विस्‍मृति के बीच’ के अपने कथन में यही लिखा है। वे कहती हैं कविताएं लिखना उनके लिए उपासना की तरह है। लेकिन उनके इस कथन पर तब भरोसा हो उठता है, जब उनकी किताब के पन्‍ने पलटने पर एक-एक कविताओं पर दृष्टि जाती है।
6
7
बापू और हरिलाल दोनों अपनी जगह अच्छे थे, सच्चे थे, सही थे लेकिन परिस्थितियों के दंश ने एक सुयोग्य पुत्र को कंटीली राह पर धकेल दिया। जीवनभर पिता के प्रति पलते आक्रोश ने हरिलाल को पतन की राह पर धकेल दिया। जब सारा विश्व बापू को सम्मान के साथ अंतिम विदाई ...
7
8
जापानियों के लिए इकिगाई का मतलब है जीवन की सार्थकता। वे अपनी उम्र में यह खोजने की कोशि‍श करते हैं कि अपने जीवन को सार्थक कैसे बनाएं। इसके लिए वे क्‍या करते हैं।
8
8
9
डेविड गोगिंस ने अपने अनोखे अनुभव पर एक किताब लिखी है Can't Hurt Me: Master Your Mind and Defy the Odds” जो मोटिवेशनल और सेल्फ हेल्प जॉनर में बेस्ट सेलर रही है।
9
10
मजबूरन उन्हें अपने गांवों का रुख करना पड़ा। उनका यह पलायन भारतीय जनजीवन का ऐसा भीषण दृश्य था, जैसा देश-विभाजन के समय भी शायद नहीं देखा गया था। लॉकडाउन के कारण आवागमन के रेल और बस जैसे साधन बन्द थे
10
11
चेतना भाटी का हाल में प्रकाशित उपन्यास चंद्रदीप सहज स्त्री भावनाओं की अभिव्यक्ति है। उपन्यास बहुत बड़े कैनवास पर नहीं रचा गया है किंतु उसमें भी जिस तरह से विभिन्न भावनाओं को दर्शाया गया है वह सहज ही जेन ऑस्टीन की शैली को याद दिला देता है।
11
12
मनुष्य जीवन और रिश्ते अत्यंत जटिल होते हैं। मनोविज्ञान के अनुसार परिस्थिति के, सोच के, वातावरण के, मनुष्य के साथ हुए अन्याय के, उसके साथ हुए व्यवहार के, उसके स्वभाव, वंशाणु और अनुवांशिक ऐसे कई मनोवैज्ञानिक कारण हैं जो मनुष्य के मन और मस्तिष्क पर ...
12
13
सौ साल पहले बनारस में जन्में इस महान सितार वादक की विरासत में गहन सांगितिक परिवेश शामिल था। उनके पिता एक संगीतज्ञ तथा दार्शनिक थे, जिन्होंने औपनिवेशिक काल में कोवेंट गार्डन लंदन में प्रस्तुति दी थी। बडे़ भाई उदय शंकर उस दौर के एक प्रतिष्ठित नर्तक ...
13
14
लेखिका ज्योति जैन साहित्य संसार में तेजी से लेकिन सरलता से उभरता वह चमकता नाम है जिसने साहित्य की लगभग हर विधा में स्वयं को सुव्यक्त किया है। वे जब लघुकथा लिखती हैं तो उनका प्रभाव
14
15
प्रताप सोमवंशी साहित्य की दुनिया के चिरपरिचित हस्ताक्षर हैं। जब उनकी कृति इतवार छोटा पड़ गया प्रकाशित हुई तो कई पाठक पढ़कर इसी तरह चौंके कि अरे यह शेर तो खूब सुना है पता नहीं था कि प्रताप सोमवंशी का है। प्रताप खुद कहते हैं कि जब उनके शेर इस कदर ...
15
16
कवयित्री ज्योति जैन के काव्य-संग्रह 'मेरे हिस्से का आकाश' ने साहित्य-संसार में सुनहरी संभावनाओं के साथ दस्तक दी है। इस काव्य-संग्रह में 101 विविध रंगी कविताएं संयोजित की गई है। संग्रह की भूमिका वरिष्ठ कवि अशोक चक्रधर ने लिखी है।
16
17
उपनिषद का सरल-सुबोध शैली में परिचय और भाषा का प्रवाह पाठक को आकर्षक ढंग से पुस्तक से जोड़े रखता है। यह लेखक की उपलब्धि कही जाएगी कि वे युवा पीढ़ी तक पुरातन पवित्र संस्कृति को पहुंचाने के अपने शुभ उद्देश्य में कामयाब रहे हैं।
17
18
पुस्तक के द्वारा दिलचस्प अंदाज में जाना जा सकता है कि महान गणितज्ञों की अभिरूचियां और सोच किस तरह से असाधारण थी।
18
19
'समकालीन कहानी का स्त्री पक्ष' 'लमही' के संपादक विजयराय के संपादन में अनन्य प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित 471 पृष्ठों की एक वृहद आलोचनात्मक पुस्तक है। इस पुस्तक में हिन्दी की वरिष्ठ कथाकार चित्रा मुद्‌गल, ममता कालिया, मृदुला गर्ग, मंजुल भगत और ...
19