High Uric Acid : 30 की उम्र के बाद तेजी से बढ़ता है, किडनी पर भी पड़ता है असर, जानिए क्‍या खाएं क्‍या नहीं


एक उम्र के बाद शरीर में कुछ बीमारियां जड़ से चिपक जाती है। जिसके बाद लगातार अलग-अलग बीमारियां उससे बढ़ने लगती है। इन दिनों महिलाओं में यूरिक एसिड की तादाद
अधिक पाई जा रही है जिससे मांसपेशियों में दर्द होता रहता है और सीधे किडनी पर प्रभाव पड़ता । आइए जानते हैं क्या होता है यूरिक एसिड, से किडनी पर किस तरह प्रभाव पड़ता है,बचाव के उपचार।

क्या होता है यूरिक एसिड

अन्‍य फूड्स को बचाने के लिए शरीर में से यूरिक एसिड नामक नेचुरल वेस्ट प्रोडक्ट निकलता है। यह किडनी से होते हुए यूरिन के द्वारा बाहर निकलता है। लेकिन जब खून में यूरिकएसिड की तादाद बढ़ जाती है तो सीधा प्रभाव किडनी पर पड़ता है। किडनी पहले एसिड को आराम से फिल्‍टर कर लेती थी लेकिन खून में मिक्स होने के बाद किडनी फिल्टर नहीं कर
पाती है। जब शरीर में यूरिक एसिड ज्यादा बढ़ जाता है तो उसे हाइपरयूरिसीमिया कहा जाता है। इस वजह से कई लोगों को किडनी की परेशानी भी होने लग जाती है। क्योंकि वह
फिल्‍टर नहीं कर पा रही और वेस्ट प्रोडक्ट अंदर ही जमा हो रहा।


इन फलों से करें तोबा

ऐसे में लोगों को उस दौरान हाई प्रोटीन डाइट लेने से बचना चाहिए। साथ ही दाल, फलियां, मटर, राजमा, छोले,काला चना नहीं खाना चाहिए। साथ ही ब्रोकली, मशरूम, मीठे फल,बर्गर,पेस्ट्री भी
दूरी बना लेना है।

हाई यूरिक एसिड पर ये खा सकते हैं

इलायची,लौंग,दालचीनी,एंटी-बैक्‍टीरियल और तेजपान के पत्ते के सेवन से यूरिक एसिड का लेवल कम होता है। हाई फाइबर फूड्स के सेवन से भी यूरिक एसिड को कंट्रोल किया जा
सकता है। इस दौरान विटामिन सी फूड्स का सेवन करने से भी वेस्‍ट एसिड की क्‍वांटीटी को भी कम किया जा सकता है।

Disclaimer: चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।




और भी पढ़ें :