Hair Transplant : हेयर ट्रांसप्‍लांट के 24 घंटे बाद शख्‍स की मौत, जानें किसे नहीं कराना चाहिए हेयर ट्रांसप्‍लांट

Last Updated: शुक्रवार, 11 मार्च 2022 (17:23 IST)
हमें फॉलो करें
जीवन में बढ़ते तनाव और थकी हुई जीवनशैली की वजह से बाल तेजी से झड़ने लगे हैं। बदलते दौर में बालों को फिर से उगाने के लिए नई तकनीक भी उपलब्‍ध है। जिसे हेयर ट्रांसप्‍लांट कहा जाता है। इसकी मदद से एक बार फिर से बालों को उगाया जा सकता है। लेकिन बिहार में एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे जानने के बाद हर कोई हेयर ट्रांसप्‍लांट कराने से डर जाएगा। जी हां, पटना में एक जवान की हेयर ट्रांसप्‍लांट के 24 घंटे बाद मौत हो गई।
 
हेयर ट्रांसप्‍लांट से पहले निम्‍न बातों का जरूर ध्‍यान रखें - 
 
- किसी भी प्रकार की एलर्जी की दवा ले रहे हैं तो ट्रांसप्‍लांट नहीं करवाएं। दरअसल, सर्जरी के दौरान एनेस्‍थीसिया दिया जाता है और इसी के साथ जख्‍मों को सुखाने की दवा भी दी जाती है। जिन्‍हें पहले से एलर्जी की दवा दी जा रही हो उनके लिए खतरनाक हो सकती है। इसलिए एलर्जी की दवा ले रहे हैं तो पहले डॉक्‍टर को इस बारे में जरूर बताएं। 
 
- डायबिटीज के मरीज है तो हेयर ट्रांसप्‍लांट नहीं कराएं। साथ ही हाई बीपी के मरीजों को भी इससे बचना चाहिए। क्‍योंकि इन दोनों बीमारी में एनेस्‍थीसिया जानलेवा साबित हो सकता है।
 
- मेटाबॉलिक डिसऑर्डर का शिकार हो गए है तो हेयर ट्रांसप्‍लांट नहीं कराएं। क्‍योंकि ग्राफि्टंग से मरीज के उपर गलत असर हो सकता है। वहीं हेयर ट्रांसप्‍लांट के दौरान मरीज को 7 से 8 घंटे तक बेहोश रखा जाता है। ऐसे में जान का खतरा भी रहता है। 
 
- मरीज के ह्दय में कोई आर्टिफिशियल उपकरण लगा है तो हेयर ट्रांसप्‍लांट सिर्फ डॉक्‍टर की सलाह से ही कराएं। हालांकि इसका रिस्‍क नहीं लेना चाहिए। हेयर ट्रांसप्‍लांट की प्रक्रिया डायबिटीज और दिल के रोगियों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है।
 
- कम पैसों के लालच में अनुभवहीन डॉक्‍टर से हेयर ट्रांसप्‍लांट नहीं कराएं। ये एक जटिल प्रक्रिया होती है। वहीं एनेस्थीसिया का ओवर डोज मरीज पर भारी भी पड़ सकता है। 
>



और भी पढ़ें :