किस लेवल के ब्लड शुगर को कहते हैं हाई ब्‍लड शुगर, क्‍या है कारण और कैसे करें बचाव

Last Updated: गुरुवार, 23 सितम्बर 2021 (12:04 IST)
हमें फॉलो करें
आमतौर पर हाइपरग्लाइसेमिया की स्थिति तब उत्पन्न होती है जब ब्लड शुगर लेवल फास्टिंग में 125 mg/dL से ज्यादा और खाने के दो घंटे के बाद इसका लेवल 180 mg/dL से ज्यादा होता है।

ग्लूकोज शरीर में ऊर्जा पहुंचाने का प्रमुख स्रोत है, जो भोजन हम करते हैं उससे प्राप्त होता है। ग्लूकोज लेवल को कई तत्व प्रभावित करते हैं जिसमें ईटिंग हैबिट्स और एक्सरसाइज शामिल होता है। इसके अलावा, ग्लूकोज की मात्रा में बदलाव किसी बीमारी, इंफेक्शन या दवाइयों के सेवन से भी आता है। इसके अलावा, इंसुलिन की कमी से भी ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ती रहती है।

डायबिटीज रोगियों को अपने ब्लड शुगर लेवल पर निगरानी रखना आवश्यक है। मरीज का एक्टिविटी लेवल कितना, कार्ब्स कितनी मात्रा में ले रहे हैं और दवा खा रहे हैं या नहीं – इसके वजह से ग्लूकोज लेवल प्रभावित होता है। इसके अलावा, तनाव भी शुगर लेवल बढ़ाने में अहम रोल निभाता है।

हाइपरग्लाइसेमिया के प्रमुख लक्षणों में ज्यादा प्यास, यूरिनेशन, भूख, थकान और नजरों में धुंधलापन शामिल है। ये लक्षण धीरे-धीरे दिखाई देना शुरू होते हैं और कई बार लंबे समय तक अनदेखे रह जाते हैं। अगर समय से इसका इलाज शुरू नहीं किया जाए तो ब्लड वेसल्स, आंखें, हार्ट, किडनी और नसें डैमेज हो सकती हैं। गंभीर स्थिति में कीटोएसिडोसिस और डायबिटिक कोमा का जोखिम भी रहता है।

हाइपरग्लाइसेमिया का खतरा तब बढ़ता है जब ग्लूकोज प्रोडक्शन और ग्लूकोज अपटेक और उसका इस्तेमाल ठीक से नहीं होता है। कार्बोहाइड्रेट के ब्रेकडाउन से बॉडी ग्लूकोज बनाता है, इंटेस्टाइन ब्लडस्ट्रीम से ग्लूकोज को एब्जॉर्ब करता है। मगर डायबिटीज के मरीजों में पैन्क्रियाज ठीक से कार्य नहीं करता है और ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है। इसके अलावा, कुछ दवाइयां, बीमारियां, सर्जरी, इंसुलिन रेजिस्टेंस और इंफेक्शन से भी ब्लड ग्लूकोज बढ़ जाता है।



और भी पढ़ें :