क्या आप जानते हैं भारत का ऐतिहासिक स्मारक चारमीनार कहां स्थित है?

Charminar  
चारमीनार भारत के ऐतिहासिक स्मारक में शामिल है। भारत में यह एक मुख्य आकर्षण का केंद्र है। इस प्रभावशाली ऐतिहासिक स्मारक के पीछे भी एक कहानी है। 
 
जी हां, इसका निर्माण 1591 ईसवी में सुल्तान मोहम्मद कुली कुतुब शाह ने करवाया था। सुल्तान कुतुब शाही राजवंश के 5वें शासक थे। साथ ही वह मोहम्मद कुली कुतुब शाह इब्राहिम कुली कुतुब शाह के तीसरे पुत्र थे। करीब 31 सालों तक उन्होंने गोलकोंडा पर राज किया था। 
 
चारमीनार का निर्माण इसीलिए करवाया गया था ताकि गोलकोंडा और मछलीपट्टनम के मार्ग को एकसाथ जोड़ा जा सकें। इससे व्यापार बढ़ेगा। चारमीनार को कुतुबशाह और भागमती के अटूट प्रेम का प्रतीक भी माना जाता है। 
 
ऐतिहासिक स्मारक चारमीनार में स्थित है। चारमीनार दो शब्दों से मिलकर बना है। चार और मीनार। चार का अर्थ- संख्या से है और मीनार का अर्थ- टावर से है। ऐसे चारमीनार शब्द बना है।> > यह चारमीनार हैदराबाद के ऐतिहासिक व्यापार मार्ग के चौराहे पर स्थित है। इसके निर्माण में ग्रेनाइट, संगमरमर और मोर्टार के मटेरियल का इस्तेमाल किया गया। चारमीनार में भारत और इस्लामी शैली का चित्रण भी किया है। इसके भव्य गेट चारों अलग-अलग सड़क पर खुलते हैं।




और भी पढ़ें :