गणेश चतुर्थी : रावण के भाई वि‍भीषण ने गुफा में छुपे गणेशजी को ढूंढकर किया था सिर पर वार

ganesha and vibhishana
भाद्रपद की चतुर्थी से का प्रारंभ होता है जो अनंत चतुर्दशी तक चलता है। इस बार 10 सितंबर से 19 सितंबर 2021 तक गणेश उत्सव रहेंगे। दक्षिण भारत में गणेश पूजा का बहुत प्रचलन है। वहां पर भगवान कार्तिकेय और महालक्ष्मी की पूजा के साथ ही गणेश पूजा भी की जाती है। आओ जानते हैं वहां के 5 खास मंदिरों की जानकारी।

रॉकफोर्ट उच्ची पिल्लयार मंदिर, तमिलनाडु : तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली (त्रिचि) में रॉक फोर्ट नामक पहाड़ी के सबसे उपर स्थित उच्ची पिल्लयार मंदिर बहुत ही प्राचीन माना जाता है। दक्षिण भारत में इससे जुड़ी एक मान्यता है कि यहां के भाई ने एक बार भगवान गणेशजी पर वार किया था।
कथा अनुसार राम ने उन्हें विष्णु की मूर्ति लंका में विराजमान करने के लिए दी थी और शर्त यह थी कि ले जाते वक्त भूमि पर न रखें अन्यथा ये मूर्ति वहीं विराजमान हो जाएगी। इधर, देवता लोग नहीं चाहते थे कि यह मूर्ति राक्षस राज्य में विराजमान हो तब उन्होंने गणेशजी को पाठ पढ़ा दिया। बिचारे गणेश जी एक बालक का वेशधारण करके विभीषण के पीछे हो लिए। रास्त में विभीषण ने सोच थोड़ा स्नान ध्यान कर लिया जाए। उन्होंने उस बालक को देखकर कहा कि ये मूर्ति संभालों इसे नीचे मत रखना मैं अभी नदी में स्नान करके आता हूं।
बालरूप में गणेशजी ने वह मूर्ति ले ली और उनके जाने के बाद भूमि पर रख दी और जाकर उक्त पहाड़ी पर छुप गए। जब वि‍भीषण को पता चला तो दिमाग खराब हो गया वह उस बालक को ढूंढते हुए उसी पहाड़ी की चोटी पर पहुंच गए जहां उन्होंने उस बालक को देखकर उसके सिर पर प्रहार किया। तब गणेशजी अपने असली रूप में प्रकट हो गए तो यह देखकर विभीषण पछताए और उन्होंने क्षमा मांगी तभी से इस चोटी पर गणेशजी विराजमान हैं। हालांकि इसका संबंध 7वीं शताब्दी से बताया जाता है। 273 फुट की ऊंचाई पर बसे इस मंदिर में 400 के लगभग सीढ़ियां हैं।
Rockfort ucchi pillayar temple



और भी पढ़ें :