200 किमी गहराई में भारत

यह तो आप जानते ही होंगे कि दुनिया की सबसे ऊँची पर्वत श्रृंखला हिमालय का निर्माण महाद्वीपों की टक्कर से हुआ था, पर आपको शायद ही मालूम हो कि महाद्वीपों की इसी टक्कर ने भारत को धरती के ‘मैंटल’ में 200 किलोमीटर गहराई में धकेल दिया था।


जी हाँ, इंडो-ब्रिटिश शोधकर्ताओं की एक टीम ने दावा किया है कि महाद्वीपों की टक्कर ने भारत को धरती के ‘मैंटल’ में 200 किलोमीटर गहराई में धकेल दिया था।

दिल्ली विश्वविद्यालय और ब्रिटेन के नेशनल ओशनोग्राफी सेंटर के भूगर्भशास्त्रियों ने एक नए अध्ययन में पाया कि करीब नौ करोड़ साल पहले जब भारत और एशिया का टकराव हुआ तो भारतीय टेक्टोनिक प्लेट का कांटिनेंटल क्रस्ट एशियाई प्लेट के अंदर चला गया।

वैज्ञानिकों का मानना है कि कांटिनेंटल क्रस्ट के इतनी गहराई तक जाने की घटना को पहले कभी देखा या सुना नहीं गया था।


साउथेम्पटन के नेशनल ओशनोग्राफी सेंटर की प्रमुख शोधकर्ता अंजु पांडेय ने बताया ‘‘कांटिनेंटल क्रस्ट के इतनी गहराई तक जाने की घटना को हिमालय में पहले कभी देखा या सुना नहीं गया और बाकी संसार में भी यह अत्यंत दुर्लभ घटना है।’’
‘जियोलॉजी’ पत्रिका के ताजा अंक में प्रकाशित अध्ययन के नतीजों से उम्मीद है कि यह हिमालयीय टेक्टोनिक के कई आधारभूत मानकों में बदलाव लाएगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :