दशहरा : दशानन रावण की 26 रोचक बातें

Ram N Ravan
Last Updated: शुक्रवार, 15 अक्टूबर 2021 (11:04 IST)
'रावण'... दुनिया में इस नाम का दूसरा कोई व्यक्ति नहीं है। तो बहुत मिल जाएंगे, लेकिन नहीं। रावण तो सिर्फ रावण है। राजाधिराज लंकाधिपति महाराज रावण को भी कहते हैं।


1. कहते हैं कि रावण लंका का तमिलों राजा था।

2. रावण असुरों का सम्राट था। उसकी माता कैकसी असुर थी। रावण का झुकाव माता परिवार की ओर होने के कारण उसमें राक्षसों के गुण आए और उसने राक्षस जाति के लिए ही कार्य किया।

3. रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का मर्मज्ञ होने के साथ-साथ तत्व ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं का जानकार था।

4. उसे मायावी इसलिए कहा जाता था कि वह इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और तरह-तरह के जादू जानता था।

5. जैन शास्त्रों में रावण को प्रति‍-नारायण माना गया है। जैन धर्म के 64 शलाका पुरुषों में रावण की गिनती की जाती है।

6. जैन पुराणों अनुसार महापंडित रावण आगामी चौबीसी में तीर्थंकर की सूची में भगवान महावीर की तरह तीर्थंकर के रूप में मान्य होंगे। इसीलिए कुछ प्रसिद्ध प्राचीन जैन तीर्थस्थलों पर उनकी मूर्तियां भी प्रतिष्ठित हैं।

7. कुछ विद्वानों अनुसार रावण छह दर्शन और चारों वेद का ज्ञाता था इसीलिए उसे दसकंठी भी कहा जाता था। दसकंठी कहे जाने के कारण प्रचलन में उसके दस सिर मान लिए गए। रावण कवि, संगीतज्ञ, वेदज्ञ होने के साथ साथ ही वह आयुर्वेद का जानकार भी था। रावण को रसायनों का भी अच्छा खासा ज्ञान था।
8. जैन शास्त्रों में उल्लेख है कि रावण के गले में बड़ी-बड़ी गोलाकार नौ मणियां होती थीं। उक्त नौ मणियों में उसका सिर दिखाई देता था जिसके कारण उसके दस सिर होने का भ्रम होता था।

9. रामचरितमानस में वर्णन आता है कि जिस सिर को राम अपने बाण से काट देते थे पुनः उसके स्थान पर दूसरा सिर उभर आता था।

10. रावण ने अमृत्व प्राप्ति के उद्देश्य से भगवान ब्रह्मा की घोर तपस्या कर वरदान मांगा था जिसके चलते उसके प्राण नाभि में स्थित थे।
11. रावण को एक विशेष धनुष और बाण से ही मारा जा सकता था जो उसकी पत्नी मंदोदरी के गुप्त कक्ष में सुरक्षित रखा था परंतु हनुमानजी उसे अपनी चतुराई से ले उड़े थे।

12. रावण पुलस्त्य मुनि का पोता, विश्वश्रवा का पुत्र थ। उसकी माता का नाम कैकसी था।
ravan dahan
13. कुबेरे और रावण के पिता एक ही थे परंतु माताएं अलग अलग थीं। रावण ने कुबेर से लंका छीन लिया था। माली, सुमाली और माल्यवान नामक तीन दैत्यों द्वारा त्रिकुट सुबेल पर्वत पर बसाई लंकापुरी को देवों और यक्षों ने जीतकर कुबेर को लंकापति बना दिया था। बाद में रावण ने इस पर कब्जा कर लिया था।
14. मंदोदरी से रावण को पुत्र मिले- इंद्रजीत, मेघनाद, महोदर, प्रहस्त, विरुपाक्ष, अक्षय कुमार, भीकम वीर। ऐसा माना जाता है कि राम-रावण के युद्ध एक मात्र विभिषण को छोड़कर उसके पूरे कुल का नाश हो गया था। धन्यमालिनी से अतिक्या और त्रिशिरार नामक दो पुत्र जन्में जबकि तीसरी पत्नी के प्रहस्था, नरांतका और देवताका नामक पुत्र थे।

15. रावण ने सुंबा और बालीद्वीप को जीतकर अपने शासन का विस्तार करते हुए अंगद्वीप, मलयद्वीप, वराहद्वीप, शंखद्वीप, कुशद्वीप, यवद्वीप और आंध्रालय पर विजय प्राप्त की थी। इसके बाद रावण ने लंका को अपना लक्ष्य बनाया। लंका पर कुबेर का राज्य था।
16. रावण के पास पुष्पक विमान के अलावा भी और भी विमान थे। उसके चार हवाई अड्डे ये हैं- उसानगोड़ा, गुरुलोपोथा, तोतूपोलाकंदा और वारियापोला।

17. रावण शिवजी का भक्त था और उसी ने शिव तांडव स्त्रोत की रचना की थी।

18. कहते हैं कि रावण का शव श्रीलंका की रानागिल की गुफा में सुरक्षित रखा हुआ है चाहे तो कोई भी जाकर देख सकता है।

19. रावण के राज्य में एक विज्ञान शाला थी जहां पर वह नए अस्त्र, शस्त्र और यंत्र बनवाता रहता था।
20. रावण ने अपने तब के बल पर सभी ग्रहों के देवों को बंधक बना लिया था। हनुमाजी की कृपा से ही सभी देव मुक्त हो पाए थे।

21. रावण को वानरराज बालि और सहस्त्रार्जुन से पराजित होना पड़ा था।

22. रावण की दो बहने थीं। एक सूर्पनखा और दूसरी कुम्भिनी थी जोकि मथुरा के राजा मधु राक्षस की पत्नी थी और राक्षस लवणासुर की मां थीं। कुबेर को बेदखल कर रावण के लंका में जम जाने के बाद उसने अपनी बहन शूर्पणखा का विवाह कालका के पुत्र दानवराज विद्युविह्वा के साथ कर दिया।
23. खर, दूषण, कुम्भिनी, अहिरावण और कुबेर रावण के सगे भाई बहन नहीं थे।

24. रावण की यूं तो दो पत्नियां थीं, लेकिन कहीं-कहीं तीसरी पत्नी का जिक्र भी होता है लेकिन उसका नाम अज्ञात है। रावण की पहली पत्नी का नाम मंदोदरी था जोकि राक्षसराज मयासुर की पुत्री थीं। दूसरी का नाम धन्यमालिनी था और तीसरी का नाम अज्ञात है। ऐसा भी कहा जाता है कि रावण ने उसकी हत्या कर दी थी।

25. रावण ने अपनी पत्नी की बड़ी बहन माया पर भी वासनायुक्त नजर रखी। वाल्मीकि रामायण के अनुसार विश्व विजय करने के लिए जब रावण स्वर्ग लोक पहुंचा तो उसे वहां रंभा नाम की अप्सरा दिखाई दी। कामातुर होकर उसने रंभा को पकड़ लिया। तब अप्सरा रंभा ने कहा कि आप मुझे इस तरह से स्पर्श न करें, मैं आपके बड़े भाई कुबेर के बेटे नलकुबेर के लिए आरक्षित हूं। इसलिए मैं आपकी पुत्रवधू के समान हूं। लेकिन रावण ने उसकी बात नहीं मानी और रंभा से दुराचार किया। यह बात जब नलकुबेर को पता चली तो उसने रावण को शाप दिया कि आज के बाद रावण बिना किसी स्त्री की इच्छा के उसको स्पर्श नहीं कर पाएगा और यदि करेगा तो उसका मस्तक सौ टुकड़ों में बंट जाएगा।
26. एक बार रावण अपने पुष्पक विमान से किसी स्थान विशेष पर जा रहा था। तभी उसे एक सुंदर स्त्री दिखाई दी। उसका नाम वेदवती था जो भगवान विष्णु को पति रूप में पाने के लिए तपस्या कर रही थी। ऐसे में रावण ने उसके बाल पकड़े और अपने साथ चलने को कहा। उस तपस्विनी ने उसी क्षण अपनी देह त्याग दी और रावण को शाप दिया कि एक स्त्री के कारण ही तेरी मृत्यु होगी। मान्यता अनुसार उसी युवती ने सीता के रूप में जन्म लिया।



और भी पढ़ें :