0

मां लक्ष्मीजी की स्तुति, स्तोत्र, चालीसा और आरती, यहां पढ़ें

शुक्रवार,दिसंबर 10, 2021
0
1
भाई दूज तिलक का शुभ समय : 1 बजकर 10 मिनट 12 सेकंड से प्रारंभ होकर 03 बजकर 21 मिनट से 29 सेकंड तक रहेगा।
1
2
द्वितीया तिथि को भ्रातृ द्वितीया भाई-बहन का पर्व माना जाता है। उस दिन भाई बहन के यहां जाकर बहन के हाथ का भोजन करना श्रेयस्कर मानते हैं।
2
3
भाई दूज के दिन दोपहर के बाद ही भाई को तिलक व भोजन कराना चाहिए। इसके अलावा यम पूजन भी दोपहर के बाद किया जाना चाहिए।
3
4
जिस तिथि को यमुना ने यम को अपने घर भोजन कराया था, यदि उस तिथि को भाई अपनी बहन के हाथ का उत्तम भोजन ग्रहण करता है तो उसे उत्तम भोजन के साथ धन की प्राप्ति होती है। पद्म पुराण में कहा गया है कि कार्तिक शुक्लपक्ष की द्वितीया को पूर्वाह्न में यम की पूजा ...
4
4
5
भाई दूज का उपहार राशि अनुसार - आज के दिन अपनी बहन को उनकी राशि अनुसार भेंट दें, इससे आपसी रिश्तों में मिठास आएगी और दोनों के लिए यह शुभ होगा।
5
6
भाई दूज शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि, और भाई दूज की कथा- भाई दूज के दिन बहन अपने भाई को तिलक करती हैं। मान्याताओं के अनुसार भाई दूज के दिन सूर्य देव की पुत्री यमुना ने अपने भाई यमदेव को अपने घर भोजन के लिए बुलाया था। जिससे उससे दिन नरक के जीवों को ...
6
7
भाईदूज आज के दिन जो भाई अपनी बहन के यहां भोजन करता है उन भाई-बहनों को यम का भय नहीं होता।
7
8
भाई दूज समारोह 5 दिवसीय दिवाली त्योहार का हिस्सा हैं और दिवाली के दो दिन बाद आता है। यह हिंदू महीने कार्तिक में शुक्ल पक्ष के दूसरे दिन आता है।
8
8
9
Bhai Dooj 2021: भाई दूज या भैया दूज पर्व को भाई टीका, यम द्वितीया, भ्रातृ द्वितीया आदि नामों से मनाया जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार यह त्योहार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाया जाता है। यह तिथि दीपावली के दूसरे दिन आती है। आओ जानते ...
9
10
गोवर्धन पूजा के अगले दिन कार्तिक शुक्ल द्वितीया को भाई दूज का त्योहार मनाया जाता है। दीपावली के 5 दिनी उत्सव में भाई दूज एक ऐसा त्योहार है जो संपूर्ण भारत में मनाया जाता है। भाईदूज का त्योहार 6 नंबर 2021 शनिवार को मनाया जाएगा। आओ जानते हैं भाई बहन ...
10
11
गोवर्धन पूजा पर गोबर से गोवर्धन की आकृति बनाकर उसके समीप विराजमान कृष्ण के सम्मुख गाय तथा ग्वाल-बालों की रोली, चावल, फूल, जल, मौली, दही तथा तेल का दीपक जलाकर पूजा और परिक्रमा की जाती है।
11
12
दीपावली के दूसरे दिन अन्नकूट मनाया जाता है,लेकिन कहीं कहीं भाई दूज के पर्व पर भी अन्नकूट मनाए जाने की प्रथा है। अन्नकूट का अर्थ है -अन्न का ढेर। योगेश्वर भगवान कृष्ण ने इन्द्र का मान-मर्दन करते हुए अपने वाम हस्त की कनिष्ठा अंगुली के नख पर गोवर्धन ...
12
13
Govardhan puja Annakut Mahotsav 2021 : कार्तिक माह में अमावस्या के दूसरे दिन प्रतिपदा के दिन गोवर्धन पूजा का पर्व रहता है। इस बार यह त्योहार 5 नंबर 2021 शुक्रवार को रखा जाएगा। इसी दिन अन्नकूट महोत्सव भी मनाया जाता है। गोवर्धन पूजा क्यों की जाती है, ...
13
14
दीपावली के पांच दिनी उत्सव में पहले दिन धनतेरस, दूसरे दिन नरक चतुर्दशी जिसे रूप चौदस भी कहते हैं, तीसरे दिन दीपावली, चौथे दिन गोवर्धन पूजा ( Govardhan puja 2021 date ) और पांचवें दिन भाईदूज का त्योहार मनाया जाता है। आओ जानते हैं कि कब है गोवर्धन ...
14
15
Diwali 2021 Muhurat Time : दीपावली के महोत्सव पांच दिनों का रहता है। जिसमें पहले दिन धनतेरस, दूसरे दिन नरक चतुर्दशी यानि रूप चौदस, तीसरे दिन कार्तिक अमावस्या पर दिवाली, चौथे दिन गोवर्धन पूजा जिसे अन्नकूट महोत्सव भी कहते हैं और पांचवें दिन भाई दूज का ...
15
16
दीपावली के दूरे दिन शुक्ल प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा ( Govardhan puja 2021 date ) की जाती है। यह पूजा 5 नवंबर 2021 को की जाएगी। इस दिनो को अन्नकूट महोत्सव ( Annakut Mahotsav 2021 ) के नाम से भी जाना जाता है। आओ जानते हैं कि किस तरह की जाती है गोवर्धन ...
16
17
महालक्ष्मी पूजन स्थिर लग्न में अति उत्तम रहता है। इससे स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। वृष, सिंह, वृश्चिक व कुम्भ स्थिर लग्न होती है। इस वर्ष के स्थिर लग्न मुहूर्त निम्न है-
17
18
4 नवंबर 2021 को दीपावली के शुभ मुहूर्त ( Diwali Deepawali 2021 Shubh Muhurat )
18
19
Diwali 4 नवंबर 2021 को देश भर में दीपावली का शुभ त्योहार मनाया जा रहा है। वेबदुनिया ने संजोई है विशेष सामग्री, आइए हर लिंक पर क्लिक कर के जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व, उपाय और कथा
19
20
Happy diwali, Shubh Diwali, Diwali Muhurat 2021 : आज 4 नवंबर 2021 को है शुभ दीपावली, यहां जानिए सबसे अच्छे और सबसे श्रेष्ठ मुहूर्त। मुहूर्त के अलावा जानिए पूजा का सबसे अच्‍छा चौघड़िया।
20
21
Diwali 2021: दिवाली या दीपावली का त्योहार प्राचीनकाल से ही मनाया जाता रहा है। वक्त के साथ इस त्योहार को मनाने के तरीके भी बदले हैं। हिन्दू कलैंडर के अनुसार दिवाली का पर्व प्रतिवर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है। दिवाली को प्राचीन काल में ...
21
22
Diwali 2021: दिवाली के पूर्व या दीवाली के दिन यूं तो कई तरह के कार्य किए जाते हैं। परंतु दीवावली के पूर्व ये 5 कार्य जरूर करना चाहिए जिससे माता लक्ष्मी जब आपके घर आए तो इसे देखकर वह प्रसन्न हो जाए। आओ जानते हैं कि क्या है वह 5 कार्य।
22
23
कार्तिक मास की अमावस्या को दिवाली अमावस्या कहते हैं। कहते हैं कि इस दिन रात सबसे घनी होती है। मतलब यह कि यह अमावस्या अन्य अमावस्याओं की अपेक्षा अधिक घनेरी होती है। इसीलिए इस अमावस्या के समय दीपोत्सव मनाया जाता है।
23
24
Lord Mahavir Nirvana Day जहां कार्तिक कृष्ण अमावस्या के दिन हिन्दू धर्मावलंबी दीपावली पर्व मनाते हैं, वहीं जैन धर्म में भगवान महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस मनाया जाता है। इसी दिन भगवान महावीर स्वामी को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। प्रतिवर्ष दीपावली के ...
24
25
Diwali 2021 : दीपावली पर अकसर द्वार, तुलसी या पूजा स्थान पर दीपक जलाकर रखे जाते हैं। हालांकि कुछ ऐसी भी जगहें हैं जहां पर कुछ लोग ही दीये जलाकर रखते होंगे। आओ जानते हैं कि दीवाली की रा‍त को कितनी जगहों पर दीपक जलाकर रखना चाहिए। जानिए इससे मिलने वाला ...
25
26
दीपावली पर श्रीराम लंका विजय प्राप्त करके आए थे। दीपावली पर आप श्रीरामजी की स्तुति करते हैं, तो आप भी कष्टों पर विजय प्राप्त कर जीवन के अंधेरे में दीप के प्रकाश जैसा उन्नति व सुखरूपी प्रकाश प्राप्त कर सकते हैं।
26
27
जिस प्रकार दीप की ज्योति हमेशा ऊपर की ओर उठी रहती है, उसी प्रकार मानव की वृत्ति भी सदा ऊपर ही उठे, यही दीप प्रज्वलन का अर्थ है।
27
28
Diwali 2021 : कार्तिक मास की अमावस्या पर दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा के दौरान उन्हें उनकी पसंद का भोग लगाया जाता है और उसे ही प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है। दीपावली के दिन माता लक्ष्मी को यदि ये भोग लगाएंगे तो ...
28
29
दीपावली के दिन महालक्ष्मी पूजन के बाद नीचे दिए गए मंत्रों जाप करने से धन की देवी मां लक्ष्मी जी तुरंत ही प्रसन्न होकर धन, ऐश्वर्य और अपार सुख और समृद्धि का आशीष देती हैं।
29
30
कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के विधि-विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है।
30
31
Diwali 2021 दिवाली के समय चंद्र, मंगल, सूर्य और बुध तुला में रहेंगे। शनि और गुरु मकर में पहले से ही विराजमान हैं। शुक्र ग्रह धनु में और राहु ग्रह वृषभ में रहेंगे। लग्न तुला का बन रहा है। ग्रह और नक्षत्रों के मान से 6 राशियों के लिए यह समय बहुत अच्छा ...
31
32
Diwali 2021: दिवाली के दिन मुख्य रूप से माता लक्ष्मी और मां काली की पूजा ( Diwali Puja 2021 ) होती है। इस दिन विधिवत रूप से की गई पूजा से माता प्रसन्न होती है और पूरे वर्ष धन- समृद्धि के साथ ही सुख- शांति बनी रहती है। इस दिन भूलकर भी ये 15 गलतियां ...
32