0

विपश्यना ध्यान क्या है, जानिए काम की 7 खास बातें

बुधवार,नवंबर 17, 2021
0
1
ध्यान के प्रकार और ध्यान की विधियों में अंतर है। ध्यान कई प्रकार का होता है जिसके अंतर्गत कई तरह की विधियां होती हैं। आओ जानते हैं इस संबंध में संक्षिप्त जानकारी।
1
2
मेडिटेशन आज के वक्त में लोगों की जरूरत बन गया है। तनाव को कम करना, अच्‍छी नींद, दिमाग को शांत रखना, स्थिरता को बनाए रखना, मानसिक शांति के लिए लोग मेडिटेशन करना पसंद करते हैं। शुरुआत में कई लोग मेडिटेशन में विश्वास नहीं रखते हैं लेकिन कुछ महीने बाद ...
2
3
चेतन मन और अचेतन मन : हमारे मन की मुख्यतः दो अवस्थाएं होती हैं- 1. चेतन मन और 2. अवचेतन मन। दोनों के कई और भी स्तर होते हैं। सम्मोहन के दौरान अवचेतन मन को जागृत किया जाता है। ऐसी अवस्था में व्यक्ति की शक्ति बढ़ जाती है लेकिन उसका उसे आभास नहीं होता, ...
3
4
सिर्फ वेबदुनिया पर... योग मुद्राओं के आकर्षक और उत्कृष्ट सामग्री। 21 जून को हमारे यानी वेबदुनिया के साथ मनाइए विश्व योग दिवस। हम लेकर आए हैं योग दिवस के साथ योग का इतिहास, परम्परा और विशेष आलेख....
4
4
5
विश्व में ध्यान करने का प्रचलन बढ़ा है। ध्यान करने से आपकी मोमोरी बढ़ती है, दिमाग शांत रहता है और कई तरह के मानसिक रोगों का भी इलाज होता है। ध्यान पर विश्‍वभर में कई तरह के शोध हुए हैं। कुछ वर्ष पूर्व हुए शोध ने नए तथ्‍य सामने रखे हैं।
5
6
योग शास्त्र के अनुसार शरीर में सात चक्र होते हैं। इनके नाम है मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विशुद्धख्य, आज्ञा और सहस्रार। किसी भी एक चक्र, दो, तीन या इससे ज्यादा चक्र जागृत होने के अलग अलग परिणाम होते हैं। समय-समय पर चक्रों वाले स्थान पर ...
6
7
आपने कभी भी योग के अंतर्गत आने वाले ध्यान और आसन को नहीं किया है जो यहां प्रस्तुत है कुछ ऐसा आसान तरीकें जिसके माध्यम से योग सीख सकेंगे।
7
8
डॉक्टर कहते हैं कि डर से आपकी प्रतिरोधक क्षमता पर असर पड़ता है। इसीलिए कहा गया है कि ध्यान से शरीर में प्रतिरक्षण क्षमता (इम्यून) का विकास होता है। ध्यान करने से तनाव नहीं रहता है। दिल में घबराहट, भय और कई तरह के विकार भी नहीं रहते हैं। ध्यान से मन ...
8
8
9
यदि ध्यान आपकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है तो यह आपके दिन का सबसे बढ़िया समय बन जाता है। आपको इससे आनंद की प्राप्ति होती है। फिर आप इसे पांच से दस मिनट तक बढ़ा सकते हैं। पांच से दस मिनट का ध्यान आपके मस्तिष्क में शुरुआत में तो बीज रूप से रहता है, ...
9
10
अष्टांग योग का 7वां अंग है ध्यान। दरअसल, ध्यान 7वीं सीढ़ी है। योग में ध्यान 7वीं स्टेप है। लेकिन वर्तमान में कुछ संस्थान ऐसे हैं, जो व्यक्ति को डायरेक्ट ध्यान लगाने या सिखाने का कार्य करते हैं। उन्होंने अपनी अलग ध्यान विधियां विकसित करके उसकी ...
10
11
अष्टांग योग में ध्यान को सातवां योगांग माना गया है। मतलब यह कि पहले आप छह सीढ़ियां क्रास करें फिर ही ध्यान में हो पाएंगे परंतु कुछ ऐसे भी लोग रहते हैं कि जो सीधे ध्यान ही सीखते हैं। कई लोग योगा सेंटर में जाकर ध्यान करते हैं या किसी से सीख कर ध्यान ...
11
12
अष्टांग योग में ध्यान को 7वीं सीढ़ी या योगांग माना गया है, परंतु जब से ध्यान का भी बाजारीकरण हुआ है तब से अब इसे डायरेक्ट किया या सीखा जा सकता है। मतलब यह कि आप छह सीढ़ियों को लांघकर सीधे सातवीं सीढ़ी पर पहुंच सकते हैं। यह चमत्कार तो ध्यान सिखाने ...
12
13
मेडिटेशन अर्थात ध्यान। ध्यान करना बहुत ही सरल है। मात्र 5 मिनट का ध्यान चमत्कारिक लाभ दे सकता है। आओ जानते हैं कि कोराना संकट के दौर और लॉकडाउन में ध्यान करना क्यों जरूरी है।
13
14
वर्तमान में जीना ही ध्यान है। एकाग्रता ध्यान नहीं है। ध्यान का मूल अर्थ है जागरूकता, अवेयरनेस, होश, साक्ष‍ी भाव और दृष्टा भाव। ध्यान का अर्थ एकाग्रता नहीं होता। एकाग्रता टॉर्च की स्पॉट लाइट की तरह होती है जो किसी एक जगह को ही फोकस करती है, लेकिन ...
14
15
मेडिटेशन को ही ध्यान लगाना केहते है, इसे दिनचर्या का हिस्सा बनाकर रोजाना करने से कई फायदे होते हैं। अगर अभी तक आपने मेडिटेशन को अपने रूटीन में शामिल नहीं किया है तो, ये 13 फायदे जानने के बाद आप
15
16
सूर्य नमस्कार योगासनों में सर्वश्रेष्ठ प्रक्रिया है। यह अकेला अभ्यास ही साधक को सम्पूर्ण योग व्यायाम का लाभ पहुंचाने में समर्थ है। इसके अभ्यास से साधक का शरीर निरोग
16
17
अष्टांग योग का सातवां अंग है ध्यान। दरअसल ध्यान सातवीं सीढ़ी है। योग में ध्यान सातवीं स्टेप है, लेकिन वर्तमान में कुछ संस्थान ऐसे हैं जो व्यक्ति को डायरेक्ट ध्यान लगाने या सिखाने का कार्य करते हैं। उन्होंने अपनी अलग ध्यान विधियां विकसित करके उसकी ...
17
18
दैनिक जीवन के विभिन्न कार्यों में स्वरों की स्थिति का बहुत महत्व देखा जाता है। स्वर ज्ञाता ज्योतिषियों की भांति इसका प्रयोग करते हैं। विभिन्न कार्यों की सफलता-असफलता,
18
19
ट्रांसेंडेंटल मेडिटेशन करने के लिए सबसे पहले शांत चित्त होकर शरीर ढीला करके बिल्कुल सीधे होकर बैठें।
19