0

क्या असली लड़ाई अब इस्लाम और ईसाइयत के बीच है?

रविवार,अक्टूबर 2, 2022
0
1
पश्चिम की श्रेष्ठता का युग बीत गया है। अब ज़रूरत है एक नए विश्व राजनीतिक (कॉस्मोपोलिटकल) चिंतन की। यह कहना नयी पीढ़ी के एक जर्मन दार्शनिक का। स्तेफ़ान वाइडनर एक जर्मन चिंतक हैं। साथ ही अरबी साहित्य व संस्कृति के ज्ञाता और जर्मन भाषा में उसके ...
1
2
इटली की नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी और भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच बहुत ज्यादा न सही लेकिन कुछ तो समानताएं हैं। मोदी और मेलोनी दोनों ही साधारण परिवार से आते हैं, मोदी ने जहां चाय बेचने के काम किया, वहीं मेलोनी वेट्रेस का ...
2
3
यूरोप के देश बड़े गर्व से राष्ट्रवाद को फ़ासीवाद जैसा एक विष और स्वयं को उससे मुक्त दूध का धुला बताते हैं। पर, इन देशों के चुनाव परिणाम कई बार इन दावों की धज्जियां उड़ाते दिखते हैं। इटली का ताज़ा चुनाव परिणाम इस वर्ष के अब तक 4 महत्पूर्ण यूरोपीय ...
3
4
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी शुक्रवार को संकल्प फाउंडेशन व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी मंच के व्याख्यानमाला को डॉ. आम्बेडकर अंतरराष्ट्रीय केंद्र, नई दिल्ली में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा की पूरी दुनिया एक ओर जहाँ विश्व को ...
4
4
5
World Ozone Day : पूरी दुनिया के लिए 16 सितंबर का दिन खास महत्व रखता हैं, क्योंकि इस दिन 'विश्व ओजोन दिवस' मनाया जाता है। इसके पीछे एक बड़ा कारण है, वो यह कि हमारे जीवन के लिए ऑक्सीजन से ज्यादा जरूरी ओजोन है और ओजोन परत के बारे में लोगों को जागरूक ...
5
6
ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ ।। के कोहिनूर मुकुट की चर्चा हो रही है। इस ताज को अब उनके पुत्र प्रिंस चार्ल्स पहनेंगे। भारत के कई लोग चाहते हैं कि कोहिनूर को वापस भारत में लाया जाए। बताया जा रहा है कि इस कोहिनूर की वर्तमान में किमत करीब 12 बिलियन डॉलर ...
6
7
Himalaya Day : पश्चिमी हिमालय की हरी-भरी मंडल घाटी में मौसम अंगड़ाई ले रहा है। यहां क़रीब ही सिरोली गांव है जिसके पश्चिम की ओर कुछ ही दूर उस पहाड़ी के एक हिस्से पर लंगूरों के सोने की जगह है। हर रोज़ शाम घिरते ही लंगूरों की टोली जंगल में जहां भी हो, ...
7
8
50 वर्ष बाद अमेरिका ने चंद्रमा पर दुबारा जाने के लिए कमर कस ली है। 2025 में वह अपने दो अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा पर पहुंचाना और वहां अपने भावी अड्डे की नींव डालना चाहता है। आर्तेमिस-1 के प्रक्षेपण का पहला प्रयास, 29 अगस्त को, मुख्य रॉकेट के एक ...
8
8
9
भूतपूर्व सोवियत संघ की कम्युनिस्ट पार्टी के अंतिम नेता और राष्ट्रपति, मिख़ाइल गोर्बाचोव, 20वीं सदी के एक ऐसे अनन्य सुधारवादी युगप्रर्तक हैं, जिन्हें लगभग भुला दिया गया। अब वे इस दुनिया में नहीं रहे। गोर्बाचोव का जन्म, 2 मार्च 1931 को, उत्तरी ...
9
10
सलमान रुश्दी की हत्या के 12 अगस्त को हुए निंदनीय प्रयास ने पश्चिमी जगत के ग़ैर-मुस्लिम ही नहीं, बहुत से मुस्लिम लेखकों और साहित्यकारों को भी स्तब्ध कर दिया है। अमेरिका, ब्रिटेन और जर्मनी सहित कई देशों के क्लब जैसे संगठन, सभाएं आदि आयोजित कर उनके ...
10
11
ईको सिस्टम और ईगो सिस्टम दोनों ही इस धरती पर जीवन की गुणवत्ता को गहरे से प्रभावित करते हैं। हवा, पानी, प्रकाश, मिट्टी और अनंत रूप-स्वरूप की वनस्पतियों से ईको सिस्टम अस्तित्व में आया। ईको सिस्टम को जीवन का बीज भी कह या मान सकते हैं। इसी तरह मन, ...
11
12
अफगानी लुटेरे अहमदशाह अब्दाली के खिलाफ देश की रक्षा के लिए सन 1760 में तत्कालीन पेशवा नानासाहेब (बाजीराव के पुत्र) ने उनके चचेरे भाई सदाशिवराव भाऊ के नेतृत्व में एक विशाल मराठा सेना को पुणे से दिल्ली कूच करने का आदेश दिया था। सातारा के सरदार ...
12
13
अटल बिहारी वाजपेयी का जन्‍म 25 दिसंबर 1924 को हुआ था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी लंबे समय से बीमार रहने के कारण अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी एम्स में भर्ती रहे, जहां उनका लंबा इलाज चला और 16 अगस्त 2018 को 93 वर्ष की उम्र में उनका ...
13
14
भारत की आजादी के अमृत महोत्सव में 75वीं वर्षगांठ के पूरे होने का दिन 15 अगस्त है। 75 साल में हमारे शहरों में क्या कुछ बदलाव हुआ है? 1947 से 2022 के बीच देश के सभी शहरों में बड़ा बदलाव हुआ है। चूंकि मैं मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में जन्मा और बड़ा हुआ ...
14
15
दिल्ली की राह उत्तरप्रदेश से ही होकर जाती है। भारतीय राजनीति का यह शाश्वत सत्य है। यही वजह है कि सभी प्रमुख राजनीतिक दलों का फोकस भी सर्वाधिक (80) लोकसभा सीटों वाले उत्तरप्रदेश पर ही होता है। चूंकि 2014 से ही प्रदेश की सर्वाधिक लोकसभा सीटें भाजपा के ...
15
16
भारतीय समाज के रूप-स्वरूप और सोच-व्यवहार में पिछले 100-150 सालों में जमीन-आसमान का अंतर आया है। जैसे समाज बदला वैसे अखबार भी बदला। आजादी आए 75 साल हो गए और आजादी से पहले के 75 सालों से आजादी के बाद के 75 सालों में सबकुछ बदल गया सारे संदर्भ और निजी व ...
16
17
भारत के नए संसद भवन की छत पर स्थापित अशोक स्तंभ इन दिनों काफी चर्चा में है। एक तबका इसका विरोध कर रहा है तो दूसरा इसका समर्थन भी कर रहा है। एक तबके का मानना है कि अशोक स्तंभ के शेर का मुंह पहले बंद था अब खुला है। यह शेर खूंखार है, इसे सौम्य होना ...
17
18
भारतीय सशस्त्र बलों में भर्ती को लेकर भारत सरकार एक योजना लेकर आई है जिसका नाम है अग्निपथ योजना। इस योजना के द्वारा सेना में भर्ती होने का पूरा प्रारूप ही बदल गया है। कई लोगों को इसे लेकर कई शंकाएं और संदेह है तो कई इसे ऐतिहासिक कदम मान रहे हैं।
18
19
भंवरलाल और कन्हैयालाल दो अलग-अलग इंसान नहीं हैं। दोनों एक जैसे ही हाड़-मांस के जीव थे। दोनों के दिल एक जैसे ही धड़कते थे। उनके रहने के ठिकाने भी एक-दूसरे से ज़्यादा दूर नहीं थे। दोनों को ही मार डाला गया। सिर्फ़ दोनों को मारने वाले और उनके तरीक़े ही ...
19