वुमन स्टडीज कोर्स कहाँ से करें

मार्गदर्शन

- डॉ. जयंतीलाल भंडारी

मैं करना चाहती हूँ। कृपया जानकारी प्रदान करें।


-हेमलता जोशी, इंदौर।


समाज की तस्वीर बदल रही है और इस बदलते समय में महिलाओं ने भी खूब तरक्की की है। इसी बदलते समय का कोर्स है- वुमन स्टडीज। देश के लगभग 35 विश्वविद्यालयों में वुमन स्टडीज एक अलग विषय के रूप में पढ़ाया जाता है, जहाँ से आप सर्टिफिकेट कोर्स, डिप्लोमा कोर्स, बैचलर डिग्री, मास्टर डिग्री, पीएचडी या रिसर्च कर सकती हैं।

वुमन स्टडीज कोर्स करने के बाद सरकारी व गैर सरकारी क्षेत्रों में रोजगार की उजली संभावनाएँ हैं। वुमन स्टडीज का कोर्स कराने वाले प्रमुख संस्थान हैं : रिसर्च सेंटर फॉर वुमन स्टडीज, एसएनडीटी वूमेंस यूनिवर्सिटी, मुंबई/ सेंटर फॉर वुमन स्टडीज एंड डेवलपमेंट, बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी/वूमेंस स्टडीज रिसर्च सेंटर, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र।
बाजार अनुसंधान का कोर्स कहाँ से किया जा सकता है?

-प्रवीण लोधी, कुण्डाली (रायसेन)।

बाजार अनुसंधान का कोर्स इन संस्थानों से किया जा सकता हैं : नरसी मोनजी इंस्टीट्यूट ऑफ सेल्स, नई दिल्ली/एपीजे स्कूल ऑफ मार्केटिंग, नई दिल्ली/भारती दासन विश्वविद्यालय, तिरुचिरापल्ली।
माइक्रो बायोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएशन करने के उपरांत रोजगार के क्या अवसर हैं?

-युवराज पटेल, रतलाम।

-माइक्रो बायोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएशन करने के उपरांत शोध आधारित मेडिसिन जॉब जैसे हॉस्पिटल और पैथॉलॉजीकल लैब, डायग्नोसिस सेंटर और डिसीज ट्रीटमेंट के क्षेत्र में उजले अवसर हैं। साथ ही फार्मास्युटिकल, फूड बेवरेज, वाटर प्रोसेसिंग, बॉटलिंग इंडस्ट्री और होटल में माइक्रो बायोलॉजिस्ट के रूप में भी अवसर हैं।
आयोजन प्रबंधन का कोर्स कहाँ उपलब्ध है?

-प्रमिला ठाकुर, बागली (देवास)।

-आयोजन प्रबंधन (इवेंट मैनेजमेंट) का कोर्स इन संस्थानों में उपलब्ध है : देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर/सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, पुणे।
मैंने हिन्दी विषय से एमए किया है। मैं किन-किन क्षेत्रों में अपना बना सकती हूँ?

-आँचल महाजन, मुरैना।

हिन्दी साहित्य में एमए करने के पश्चात आपके पास अनेक करियर विकल्प मौजूद हैं, जिनके द्वारा आप अच्छा करियर बना सकती हैं। हिन्दी में एमएड, एमफिल तथा पीएचडी करने के उपरांत आप स्कूलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों तथा केंद्रीय सरकार के कार्यालयों, बैंक, डाकघर, रेलवे, आकाशवाणी, दूरदर्शन, हिन्दी चैनलों, विभिन्ना दूतावासों, अंतरराष्ट्रीय भाषा साहित्य संस्थानों, पत्र-पत्रिकाओं आदि में अच्छा रोजगार पा सकती हैं।
रंगमंच और दृश्य कलाओं का प्रशिक्षण देने वाले प्रमुख संस्थानों की जानकारी दें।

-कल्पेश बघेल, सिवनी।

रंगमंच एवं दृश्य कलाओं से संबंधित प्रमुख संस्थान हैं : फिल्म और टेलीविजन संस्थान, पुणे/राष्ट्रीय नाट्य कला अकादमी, नई दिल्ली/नेशनल सेंटर फॉर परफॉर्मिंग आर्ट्स, मुंबई।
मुझे गणित विषय बहुत कठिन लगता है। कृपया बताएँ कि गणित को कैसे समझा जाए?

-दिलीप जैन, आष्टा (सीहोर)।

आपके जैसे बहुत से छात्र-छात्राएँ हैं, जिन्हें गणित विषय बहुत कठिन लगता है। इसलिए घबराएँ नहीं, बल्कि गणित विषय पर और अधिक ध्यान दें। बार-बार गणित के सवालों का अभ्यास करेंगे तो धीरे-धीरे यही कठिन लगने वाला विषय आपको आसान लगने लगेगा। ध्यान रखें कि जब भी आप अभ्यास करें तो बोल-बोलकर लिखें। इससे आपको गणित के सूत्र आसानी से याद हो जाएँगे तथा गणित आपको बहुत ही आसान लगने लगेगा।
मैं क्रॉफ्ट डिजाइन का कोर्स करना चाहती हूँ। कृपया प्रदान करें।

-शिवानी रस्तोगी, जांजगीर-चाँपा।

द इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ क्रॉफ्ट एंड डिजाइन (आईआईसीडी), जयपुर एकमात्र ऐसा संस्थान है, जो क्रॉफ्ट डिजाइन, क्रॉफ्ट मैनेजमेंट व क्रॉफ्ट टेक्नॉलॉजी में अध्ययन, प्रशिक्षण और शोध मुहैया करवाता है। इस संस्थान में क्रॉफ्ट डिजाइन में स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं।
भारतीय सेना में नर्स बनने हेतु महिलाओं हेतु आयु सीमा क्या निर्धारित है?

-दीपा गुप्ता, ब्यावरा (राजगढ़)।

भारतीय सेना में नर्स बनने हेतु महिलाओं की आयु 17 से 24 वर्ष के मध्य होना चाहिए।



और भी पढ़ें :