इस महान क्रांतिकारी के साथ पढ़ते थे सोनू सूद के दादाजी

पुनः संशोधित शुक्रवार, 4 सितम्बर 2020 (16:01 IST)
हमें फॉलो करें
कोरोनावायरस के इस दौर में प्रवासी मजदूरों के मसीहा बनकर सामने आए हैं। उन्होंने हजारों लोगों को उनके घर तक पहुंचाया और अब वे उन्हें काम भी दिलवा रहे हैं। इससे पूरे देश में सोनू की फैन फॉलोइंग में गजब का इजाफा हुआ है।

हाल में सोनू सूद ने नेहा धूपिया के पोडकास्ट में अपनी जिंदगी से जुड़े दिलचस्प किस्से शेयर किए। सोनू सूद मुख्य रूप से हिन्दी फिल्मों के कलाकार माने जाते हैं, लेकिन उन्होंने तमिल, तेलुगू और पंजाबी सहित कई भाषाओं की फिल्में की हैं। सोनू ने अपना डेब्यू भी हिन्दी नहीं बल्कि तमिल फिल्म से किया था।

सोनू सूद ने साल 2002 में फिल्म 'शहीद ए आजम' से बॉलीवुड में डेब्यू किया। महान की जिंदगी पर बनी इस फिल्म में सोनू ने भगत सिंह का किरदार निभाया था। फिल्म में सोनू के काम से प्रोड्यूसर काफी खुश थे और इसका भी एक खास कारण था।
सोनू ने बताया कि 'उनके दादा भगत सिंह के साथ लाहौर कॉलेज में पढ़ते थे।' इसका असर तब देखने के लिए मिला जब सोनू सूद 'शहीद ए आजम' में काम कर रहे थे। प्रोड्यूसर से ज्यादा जानकारी सोनू को थी। उनकी इस बात से फिल्म के प्रोड्यूसर बेहद इंप्रेस थे, क्योंकि सोनू सूद को भगत सिंह के इतिहास के बारे में उनसे ज्यादा जानकारी थी।
वहीं सोनू सूद ने अक्षय कुमार के सुपर पावर के बारे में बात करते हुए बड़ी दिलचस्प बात बताई। उन्‍होंने कहा, 'नोट बड़ी तेजी से गिनता है यार। जितने पैसे कमाता है वो धड़ धड़ धड़ धड़, और मुझे लगता है कि उसने काउंटिंग मशीन भी ली होगी। लेकिन कहता होगा मशीन बड़ी स्लो गिनती है, इसे हटाओ पीछे, आने दे इसे। पंजाब वाले देसी स्टाइल लगाया और गिनना शुरू।'



और भी पढ़ें :