0

रवि प्रदोष व्रत : जानिए क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त, विधि, मंत्र एवं सामग्री

शनिवार,अक्टूबर 16, 2021
0
1
इस वर्ष आश्विन मास का प्रदोष व्रत 17 अक्टूबर 2021, रविवार को रखा जाएगा। रविवार के दिन यह व्रत आने के कारण इसे रवि प्रदोष व्रत कहा जाता है।
1
2
शरद पूनम की रात हजार काम छोड़कर 15 मिनट चन्द्रमा को एकटक निहारना सेहत के लिए शुभ होता है। जानिए, और भी आश्चर्यजनक लाभ...
2
3
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु का पूजन करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।
3
4
हिन्दू धर्म और ज्योतिष के अनुसार सूर्यास्त के बाद कुछ ऐसे कार्य होते हैं जिन्हें नहीं करना चाहिए। उन्हें करने से घर में रोग, शोक और संकट पैदा होते हैं और साथ ही देवी लक्ष्मी रूठ जाती है। आओ जानते हैं उन्हीं कार्यों में से 10 ऐसे कार्य जिन्हें भूलकर ...
4
4
5
12 राशियां होती हैं- मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुम्भ और मीन। सूर्य बारी-बारी से इन 12 राशियों से होकर गुजरता है। सूर्य के एक राशि से दूसरी राशि में गोचर को ही संक्रांति कहते हैं। आओ जानते हैं कि तुला संक्रांति ( ...
5
6
प्रतिवर्ष कार्तिक कृष्ण चतुर्थी के दिन सुहागिन महिलाएं करवा चौथ व्रत रखती है। यह सौभाग्यवती स्त्रियों का सुंदर सुहाग पर्व है। इस व्रत में सास अपनी बहू को सरगी देती है।
6
7
इस माह अर्थात अक्टूबर 2021 में शुक्र, बुध, मंगल और सूर्य का राशि परिवर्तन है। वहीं शनि और बृहस्पति अपनी चाल बदलेंगे। ऐसे में सूर्य और बुध का राशि परिवर्तन महत्वपूर्ण माना जा रहा है।
7
8
शस्त्र पूजन की परंपरा आदिकाल से चली आ रही है। प्राचीन समय में राजा-महाराजा विशाल शस्त्र पूजन करते रहे हैं। आज भी इ‍स दिन क्षत्रिय शस्त्र पूजा करते हैं। सेना में भी इस दिन शस्त्र पूजन किया जाता है।
8
8
9
15 अक्टूबर 2021 को विजयादशी का पर्व है जिसे दशहरा भी कहते हैं। दशहरे पर कई लोग वाहन, घर, कपड़े आदि की खरीददारी करते हैं और इस दिन विशेष पूजन भी होता है तो आओ जानते हैं कि क्या है खरीदी और पूजन के शुभ मुहूर्त।
9
10
इस वर्ष गुरुवार, 7 अक्टूबर 2021 को आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शारदीय नवरात्रि का आरंभ हो रहा है। इन नौ दिनों तक मां देवी दुर्गा की आराधना की जाती है।
10
11
दशहरे के दिन अपनी-अपनी राशि अनुसार देवता का पूजन करने से जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफलता मिलती है। आइए जानें 12 राशियों के अनुसार इस दशहरे पर कैसे करें पूजन...
11
12
नवमी तिथि 13 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार को रात 08 बजकर 07 मिनट से प्रारंभ होकर 14 अक्टूबर 2021 दिन बृहस्पतिवार को शाम 06 बजकर 52 मिनट पर समाप्त होगी। अत: नवमी का पूजन 14 अक्टूबर 2021, दिन गुरुवार को किया जाएगा।
12
13
नवरात्रि के आखिरी दिन यानी नवमी को मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती हैं। यह मां दुर्गा का नौंवा रूप हैं। कमल पर विराजमान चार भुजाओं वाली मां सिद्धिदात्री लाल साड़ी में विराजित हैं।
13
14
आज दुर्गा अष्टमी पर्व है। यहां पढ़ें दुर्गा महाअष्टमी की समग्र जानकारी एक ही स्थान पर...
14
15
अष्टमी तिथि 12 अक्टूबर 2021 दिन मंगलवार को रात 09 बजकर 47 मिनट से प्रारंभ होकर 13 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार को रात 08 बजकर 07 मिनट पर समाप्त होगी। अत: अष्टमी का पूजन 13 अक्टूबर 2021, दिन बुधवार को किया जाएगा।
15
16
शारदीय नवरात्रि में घटस्थापना, कलश पूजा, माता की पूजा, आरती, सभी कुछ मुहूर्त में किया जाता है। नवरात्रि में अष्‍टमी नवमी और दशमी की पूजा बहुत महत्वपूर्ण होती है। इस पूजा में मुहूर्त का बड़ा महत्व होता है। आओ जानते हैं तीनों महत्वपूर्ण दिनों के शुभ ...
16
17
मंगलवार, 12 अक्टूबर 2021 को शारदीय नवरात्रि का सातवां दिन है। नवरात्रि में जैसे द्वितीय नवरात्रि के दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा से राहु के अशुभ फल दूर होते हैं। उसी तरह सप्तमी की तिथि को सरस्वती का आह्वान किया जाता है।
17
18
शनि ग्रह एक राशि में ढाई वर्ष रहता है। साल 2021 में ( shani transit 2021 in hindi ) वह मकर राशि में पिछले साल से ही गोचर कर रहा है। शनि 29 अप्रैल साल 2022 को मकर से निकलकर कुंभ में जाएंगे। 11 अक्टूबर 2021 सोममवार को शनि ग्रह प्रात: 3:44 पर मकर राशि ...
18
19
अगर आपके हाथ में X का निशान बनता है तो जान लें किस्‍मत ने आपके लिए कुछ खास संजों कर रखा है। जानिए क्या है क्रॉस का राज...
19