सूर्य संक्रांति, सूर्य का गोचर, बड़ा राशि परिवर्तन, इन खास राशियों के आ रहे हैं अच्छे दिन, जानिए उपाय

surya ka rashi parivartan 2022
surya ka rashi parivartan 2022
पुनः संशोधित गुरुवार, 12 मई 2022 (11:06 IST)
हमें फॉलो करें
Surya gochar in may 2022 : सूर्य ग्रह राशि परिवर्तन करने जा रहा है। ज्योतिष मान्यता के अनुसार सूर्य के राशि परिवर्तन करने से 6 राशियों के अच्छे दिन शुरू हो जाएंगे। सूर्य 15 मई 2022 रविवार के दिन मेष से निकलकर वृषभ में (Surya ka vrshabh me parivartan) गोचर करेगा। आओ जानते हैं सूर्य ग्रह को शुभ करने के उपाय।


6 राशियां हो जाएंगी भाग्यशाली (2022):
1. मेष राशि : सूर्य आपकी राशि के दूसरे भाव में गोचर करेगा। आर्थिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो सूर्य का यह गोचर आपके लिए अनुकूल सिद्ध हो सकता है। हालांकि आपका कार्य स्थल और घर परिवार में वाद विवाद से बचकर रहना होगा। करियर में सफलता मिलेगी। नई संपत्ति बनाने में सफलता हासिल कर पाएंगे।
2. वृषभ राशि : सूर्य आपकी राशि के लग्न भाव यानी प्रथम भाव में गोचर करेगा। इस दौरान नौकरी में तरक्की होगी। व्यापार में मेहनत का फल मिलेगा। करियर में सफलता मिलेगी। आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। परिवार में खुशी का माहौल रहेगा।

3. कर्क राशि : सूर्य आपकी राशि के 11वें भाव में गोचर करेगा। इस गौचर के कारण आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। वैवाहिक जीवन सुखमय गुजरेगा। नौकरी में पदोन्नति के योग हैं। व्यापार में निवेश से लाभ मिलेगा। मान सम्मान में बढ़ोतरी होगी।
4. सिंह राशि: सूर्य आपकी राशि के 10वें भाव में गोचर करेगा। कार्य स्थल पर आपके मान-सम्मान और लोकप्रियता में बढ़ोतरी होगी। नौकरी में पदोन्नति के योग हैं। करियर में सफलता मिलेगी। यात्रा के भी योग हैं।

5. कन्या राशि: सूर्य आपकी राशि के नौवें भाव में गोचर करेगा। इस नौरान आपको भाग्य का सात मिलेगा। नौकरीपेशा हैं तो तमाम तरह के लाभ मिलने की संभावना है। व्यापारी हैं तो मुनाफा प्राप्त करेंगे। आर्थिक स्थिति पहले से मजबूत होगी। घर परिवार में मांगलिक कार्य होंगे।
6. मीन राशि : सूर्य आपकी राशि के तीसरे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपके अटके कार्य पूर्ण होंगे। विवाद सुलझेंगे। नौकरी में अच्छे अवसर प्राप्ति होंगे। स्थानांतरण के योग भी हैं। व्यावसाय में यह समय मिलेजुले फल वाला रहेगा।
surya dev ke upay
सूर्य के उपाय :
1. गुड़ खाकर जल पीकर ही कोई कार्य प्रारंभ करें।
2. प्रात:काल सूर्यदेव को अर्घ्य अर्पित करें।

3. पिता का सम्मान करें। उन्हें किसी भी तरह से परेशान न करें।

4. आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें। नित्य भगवान विष्णु की उपासना करें और एकादशी का व्रत रखें।

5. बंदर, पहाड़ी गाय या कपिला गाय को भोजन कराएं।

6. तांबा के लौटे में भी पानी पीएं।

7. गायत्री मंत्र का जाप करें और सूर्य यंत्र की स्‍थापना करें।
8. सूर्य के गोचर के समय जल में खसखस या लाल फूल या केसर डालकर करना शुभ रहता है।

9.
ॐ रं रवये नमः या ॐ घृणी सूर्याय नमः 108 बार (1 माला) जाप करें।

10. देर से सोकर उठना छोड़ दें। सुबह की धूप लें।

अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म, ज्योतिष आदि विषयों पर वेबदुनिया में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।



और भी पढ़ें :