तेनालीराम की कहानियां : रंग-बिरंगे नाखून

FILE


'परंतु तुम्हें कैसे पता लगा कि यह पक्षी रंगा गया है?'

'महाराज, बहेलिए के रंगीन नाखूनों से। पक्षी पर लगे रंग तथा उसके नाखूनों का रंग एक समान है।'

अपनी पोल खुलते देख बहेलिया भागने का प्रयास करने लगा, परंतु सैनिकों ने उसे पकड़ लिया।

राजा ने उसे धोखा देने के अपराध में जेल में डाल दिया और उसे दिया गया पुरस्कार अर्थात 50 स्वर्ण मुद्राएं तेनालीराम को दे दिया गया
WD|



और भी पढ़ें :