तेनालीराम की कहानियां : रंग-बिरंगे नाखून

FILE


'मैं अपनी बात सिद्ध करना चाहता हूं, महाराज।' यह कहते हुए ने एक गिलास पानी पक्षी के पिंजरे में गिरा दिया। पक्षी गीला हो गया और सभी दरबारी पक्षी को आश्चर्य से देखने लगे।

पक्षी पर गिरा पानी रंगीन हो गया और उसका रंग हल्का भूरा हो गया। राजा तेनालीराम को आश्चर्य से देखने लगे।

तेनालीराम बोला, 'महाराज यह कोई विचित्र पक्षी नहीं है बल्कि जंगली कबूतर है।'


WD|



और भी पढ़ें :