तेनालीराम की कहानियां : मटके में मुंह

FILE



'तेनालीराम! ये क्या बेहुदगी है। तुमने हमारी आज्ञा का उल्लंघन किया हैं', महाराज ने कहा। दंडस्वरूप कोड़े खाने के तैयार हो जाओ।

'मैंने कौन-सी आपकी आज्ञा नहीं मानी महाराज?'

घड़े में मुंह छिपाए हुए बोला- 'आपने कहा था कि कल मैं दरबार में अपना मुंह न दिखाऊं तो क्या आपको मेरा मुंह दिख रहा है। हे भगवान! कहीं कुम्भकार ने फूटा घड़ा तो नहीं दे दिया।'

यह सुनते ही महाराज की हंसी छूट गई। वे बोले- 'तुम जैसे बुद्धिमान और हाजिरजवाब से कोई नाराज हो ही नहीं सकता। अब इस घड़े को हटाओ और सीधी तरह अपना आसन ग्रहण करो।'
WD|



और भी पढ़ें :