ओबामा पेश करेंगे शिकागो की मेजबानी

वॉशिंगटन (वार्ता)| वार्ता|
हमें फॉलो करें
FILE
ब्राजीली शहर रियो डि जनेरियो को वर्ष 2016 के खेलों की मेजबानी नहीं मिलने देने का खुलेआम ऐलान कर चुके अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा शुक्रवार को कोपनहेगन में होने वाली अंतराष्ट्रीय ओलिम्पिक समिति (आईओसी) की बैठक में खुद मौजूद रहकर शिकागो के लिए समर्थन जुटाएँगे।


अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस ने बताया कि ओबामा 2016 ओलिम्पिक खेलों की मेजबानी करने वाले शहर के बारे में फैसला करने के लिए आयोजित आईओसी की बैठक में खुद ही मौजूद रहेंगे1 ऐसा माना जा रहा है कि ओबामा की मौजूदगी शिकागो के लिए आईओसी सदस्य देशों का समर्थन जुटाने में काफी मददगार साबित होगी।

आईओसी की इस बैठक में 115 सदस्य यह फैसला करेंगे कि 2016 के ओलिम्पिक खेलों की मेजबानी अमरीकी शहर शिकागो, स्पेन की राजधानी मेड्रिड, ब्राजील की राजधानी रियो डि जनेरियो और जापान की राजधानी टोक्यो में से किस शहर को मिलेगी।

वैसे ओबामा के शिकागो के समर्थन में खुलकर उतरने से मामला काफी रोचक हो गया है। गौरतलब है कि ब्राजील के राष्ट्रपति लुइस इनेसियो लूला डा सिल्वा, स्पेन नरेश युआन कार्लोस और जापान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री यूकिओ हातोयामा भी अपने-अपने शहरों के पक्ष में समर्थन जुटाने के लिए इस बैठक के दौरान मौजूद रहने का ऐलान पहले ही कर चुके हैं।


इस स्थिति में ओलिम्पिक खेलों की मेजबानी का सवाल इन राजनेताओं के लिए निजी प्रतिष्ठा का विषय भी बन गया है1 ओबामा ने गत सप्ताह पीट्सबर्ग में हुयी जी-20 देशों की बैठक के दौरान खुलकर कहा था कि वह रियो डि जनेरियो को यह मेजबानी न मिलने देने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा देंगे।

दरअसल ओबामा वर्ष 1996 के अटलाटा ओलिम्पिक के बाद एक बार फिर ओलिम्पिक खेलों को अमरीका में आयोजित कराना चाहते हैं। उन्होंने अपने जीवन का एक लंबा समय शिकागो में ही बिताया है1 इसके अलावा ओलिम्पिक खेलों के प्रस्तावित आयोजन स्थल के नजदीक उनका एक घर भी है।
व्हाइट हाउस ने बताया कि आईओसी की बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति की पत्नी मिशेल ओबामा भी शिकागो के प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा होंगी। ओबामा दम्पति एक साथ ही आईओसी बैठक में ओलिम्पिक खेलों की मेजबानी के लिए शिकागो की दावेदारी पेश करेंगे1 इसके थोड़ी देर बाद ही अमरीकी राष्ट्रपति स्वदेश लौट आएँगे।

ओबामा दम्पति के कोपनहेगन जाने के फैसले से शिकागो के महापौर रिचर्ड एमडेले की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं। उन्होंने कहा कि शिकागो की दावेदारी पेश करने के लिए राष्ट्रपति और प्रथम महिला से बेहतर कौन हो सकता है। उनकी मौजूदगी से शिकागो शहर को महानता देने वाली उम्मीद, अवसर और प्रेरणा का संचार होगा।



और भी पढ़ें :