सिंहासन बत्तीसी : तेईसवीं पुतली धर्मवती की कहानी

FILE


शावक की परवरिश बकरी के बच्चों के साथ होने लगी। वह भी भूख मिटाने के लिए बकरियों का दूध पीने लगा, जब बकरी के बच्चे बड़ हुए तो घास और पत्तियां चरने लगे। शावक भी पत्तियां बड़े चाव से खाता। कुछ और बड़ा होने पर दूध तो वह पीता रहा, मगर घास और पत्तियां चाहकर भी नहीं खा पाता।

एक दिन जब विक्रम ने उसे शावक का हाल बताने के लिए बुलाया तो उसने उन्हें बताया कि शेर का बच्चा एकदम बकरियों की तरह व्यवहार करता है।

उसने राजा से विनती की कि उसे शावक को मांस खिलाने की अनुमति दी जाए, क्योंकि शावक को अब घास और पत्तियां अच्छी नहीं लगती हैं। विक्रम ने साफ़ मना कर दिया और कहा कि सिर्फ दूध पर उसका पालन-पोषण किया जाए।

WD|



और भी पढ़ें :