सिंहासन बत्तीसी : पच्चीसवीं पुतली त्रिनेत्री की कहानी

WD|

भाट से उसका दुख नहीं देखा गया तो वह एक दिन धन इकट्ठा करने की नीयत से निकल पड़ा। कई राज्यों का भ्रमण कर उसने सैकड़ों राज्याधिकारियों तथा बड़े-बड़े सेठों को हंसाकर उनका मनोरंजन किया तथा उनकी प्रशंसा में गीत गाए।


खुश होकर उन लोगों ने जो पुरस्कार दिए उससे बेटी के विवाह लायक धन हो गया। जब वह सारा धन लेकर लौट रहा था तो रास्ते में न जाने चोरों को कैसे उसके धन की भनक लग गई, उन्होंने सारा धन लूट लिया।

वह जब लौटकर घर आया तो उसकी पत्नी को आशा थी कि वह ब्याह के लिए उचित धन लाया होगा।




और भी पढ़ें :