बर्फ की तरह पिघले रिश्ते

प्यार
NDND
खुशबू बनकर आए थे तुम
खुशियों की मधुमास बन
छाए थे तुम
तुम्हें पाकर होता था मुझे
पूर्णता का अहसास
अब नहीं रही थी मन में
मेरे कोई अधूरी आस


मेरे हर बहते आँसू को
लगाया था
तुमने अपने गालों से
मेरे बालों में खिलता गुलाब
सजाया था
तुमने अपने हाथों से

दी थी इतनी खुशियाँ
जो झोली से बिखर-बिखर आती
के इस बहते समंदर में
हमारी प्रेम की नैया हिचकोले खाती

वक्त बदला और तुम भी बदल गए
दूरियों की गर्मी से बर्फ की तरह
क्या हमारे रिश्ते पिघल गए?
अब क्यों मेरे रूठने पर
तुम्हें मनाना नहीं आता
आखिर कैसे मुझे देखे बगैर
तेरा दिन है गुजर जाता

जो रखता था पलकों पर
आज छोड़ जाता है
बीच बाजार में।
क्या यही सिला
दिया जाता है प्यार में?
गायत्री शर्मा|
हमें फॉलो करें
क्या यही सिला ...



और भी पढ़ें :