असम में चुनाव लड़ेंगे पूर्व उग्रवादी

गुवाहाटी| भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 26 मार्च 2011 (17:30 IST)
हमें फॉलो करें
में आगामी के प्रथम चरण में कई उग्रवादी और जैसे करोड़पति चुनावी मैदान में अपना भाग्य आजमाते नजर आएँगे।


उल्फा के एक पूर्व नेता सहित दो उग्रवादी, जिन्होंने पिछले चुनावों में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में जीत हासिल की थी और प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन के तीन नेता चार अप्रैल को होने वाले चुनाव में खड़े होंगे।

दो निर्दलीय विधायक जितेन गोगोई और कुशाल डुवोरी क्रमश: बोकाखाट और थोवरा विधानसभा क्षेत्र से खड़े हुए हैं। दोनों तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं। वे उल्फा के नेता रह चुके हैं और उन्होंने सरकार के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था।

तीन अन्य उल्फा उग्रवादियों ने दस साल पहले सरकार के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। चुनाव में खड़े पूर्व उल्फा नेता सुरेश बोरा बर्हमपुर से कांग्रेस प्रत्याशी हैं। साथ ही प्रफुल्ल बोरा उर्फ धेकिआल फुकान बिहपुरिया से एनसीपी प्रत्याशी हैं जबकि जयंत खुंड नाओबोइचा से निर्दयलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं।

सुरेश ने मीडिया से कहा कि उग्रवादी संगठन से उनके संबंध का चुनावी परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

दूसरी ओर चुनाव में खड़े करोड़पतियों में आबकारी तथा समाज कल्याण मंत्री गौतम रॉय के पुत्र और कांग्रेस विधायक राहुल रॉय अलगापुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। वह 8.2 करोड़ रुपए की चल अचल संपत्ति के मालिक हैं।
विपक्षी दल अगप के प्रत्याशी और विधायक पद्म हजारिका इस सूची में दूसरे नंबर पर हैं। वह 3.22 करोड़ रुपए की चल अचल संपत्ति के मालिक हैं संस्कृति एवं खेल मंत्री भारत नारह 2.46 करोड़ रुपए, कानून एवं हथकरघा मंत्री प्रणब गोगोई 1.87 करोड़ रुपए, पीडब्ल्यूडी मंत्री अजंता नेओग 1.5 करोड़ रुपए के साथ सूची में अगले स्थान पर हैं।

इसी तरह कई और करोड़पतियों के नाम हैं जिनके भाग्य का फैसला चुनाव में होगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :