मानव तस्करी के मामले से मंत्री अनभिज्ञ

पणजी| भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 8 अप्रैल 2012 (15:31 IST)
हमें फॉलो करें
गोवा के एक और अस्पताल की कैंटीन में मानव तस्करी का मामला आने के दो सप्ताह बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने दावा किया कि उन्हें इस मामले में हुई प्रगति के बारे में कोई जानकारी नहीं है।


पारसेकर ने कहा कि मैं इसके बारे में अभी सुन रहा हूं। मैं पूछताछ करूंगा। ‘गोवा मेडिकल कॉलेज एण्ड हॉस्पिटल’ की कैंटीन पर दो सप्ताह पहले छापे मारी में एक बच्चे को मुक्त कराया गया था जबकि एक बच्चा लापता है। कथित तौर पर लापता बच्चे को कैंटीन के ठेकेदार को 15,000 रुपए में बेचा गया था।

इन दोनों के अलावा और तीन बच्चों के बेचे जाने की खबर है, तीनों को कैंटीन में काम करने के लिए खरीदा गया था।

गोवा राज्य बाल अधिकारी निगरानी आयोग ने कैंटीन पर छापा मारा था और इसी की शिकायत के आधार पर अगासिम पुलिस ने ठेकेदार को गिरफ्तार किया।


इस छापे मारी के बाद सरकारी रिमांड होम ‘अपना घर’ भी शक के घेरे में आ गया क्योंकि एक बच्चा वहीं रहता था। 16 साल का होने के बाद रिमांड होम ने उसे घर भेजा था लेकिन वह कैंटीन पहुंच गया।
गोवा मेडिकल कॉलेज के डीन डॉक्टर वी.एन. जिंदल का कहना है कि पुलिस ने अस्पताल परिसर में चल रहे रैकेट के बारे में उन्हें औपचारिक तौर पर कोई जानकारी नहीं दी है। (भाषा)



और भी पढ़ें :