सिगरेट चढ़ाने से पूरी होती है मन्नत

लखनऊ (वार्ता)| वार्ता|
हमें फॉलो करें
धार्मिक आस्था और रीति-रिवाजों से सराबोर इस देश में पूजा अथवा इबादत के लिए आमतौर पर फूलों का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन उत्तरप्रदेश की राजधानी की ऐतिहासिक मूसाबाग हवेली के निकट एक ऐसी है जहाँ पूरी करने के लिए है।


वर्ष 1857 में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौरान एक हादसे में मारे गए अंग्रेज सेना के अधिकारी कैप्टन एफ. वाले की मजार पर सिगरेट चढ़ाने के लिए हर जुमेरात को श्रद्धालुओं का ताँता लगता है। सदियों पुरानी इस रीति के पीछे मान्यता है कि सिगरेट चढ़ाने से लोगों की मनोकामनाएँ पूरी होती हैं।

कैप्टन की मजार के निकट सैयद इमाम अली शाह की दरगाह है। इस मजार की सही आयु का अंदाजा हालाँकि किसी को नही है लेकिन किंवदंतियों के अनुसार अवध के नबाब आसफउद्दौला ने वर्ष 1775 में फैजाबाद से लखनऊ आकर एकांत क्षणों को रूमानी बनाने के लिए जब मूसाबाग का निर्माण कराया था तब उसने रास्ते में पड़ रही इस मजार के लिए कुछ स्थान छोड़ दिया था।

मूसाबाग पर इस दयालु शासक का प्रभुत्व कुछ समय के लिए रहा। नवाब के सौतेले भाई सआदत अली खान ने एक जंग के बाद इस बाग पर कब्जा कर लिया और बाग के कोने पर एक हवेली की आधारशिला रखी। अंग्रेजी हुकूमत के लखनऊ में पैर जमाने के दौरान अंग्रेज सेना के जनरल क्लाड मार्टिन ने हवेली को पाश्चात्य सभ्यता का स्वरूप देना चाहा और इस कड़ी में वहाँ तोड़फोड़ का काम शुरू हो गया।

अंग्रेज सेना के कैप्टन एफ वाले की अगुवाई में वर्ष 1858 को हवेली के जीर्णोद्धार के दौरान रास्ते में पड़ने वाली सैयद बाबा की मजार को तोड़ने से जब मजदूरों ने मना कर दिया तो इस अंग्रेज अधिकारी ने स्वयं ही कुदाल उठाकर इसे तोड़ना चाहा।

कैप्टन के कुदाल उठाते ही पास के पेड़ पर बर्र के छत्ते से हजारों बर्र उसके शरीर से लिपट गईं और देखते ही देखते इस अंग्रेज अधिकारी ने दम तोड़ दिया। मान्यता है कि अंतिम समय में उसने मजार को अपवित्र करने के लिए बाबा की रूह से क्षमा याचना की थी जिससे बाबा ने उसे अपना शिष्य बनाते हुए अपने भक्तों को सपने में कहा कि कैप्टन की मजार पर हाजिरी दिए बगैर उनकी मजार पर सिर झुकाने वालों की मन्नत पूरी नहीं होगी।
चूँकि कैप्टन सिगरेट और शराब का बेहद शौकीन था इसलिए उसकी मजार पर सिगरेट चढ़ाने का रिवाज आज भी कायम है।

कई पीढि़यों से हजरत सैयद इमाम अली शाह की दरगाह की देखभाल में लगे फरीदी परिवार के मुखिया 70 वर्षीय मोहम्मद सलीम फरीदी ने कहा कि अपने बुजुर्गों से मिली जानकारी के अनुसार सदियों से यह मान्यता है कि सऊदी अरब से अमन का पैगाम पूरी दुनिया में फैलाने की नीयत से 14वीं सदी में यहाँ आए बाबा के लश्कर में कई सदस्य थे जिसमें उनके छोटे भाई कायम अली शाह और हजरत नूर अली शाह समेत 11 सदस्य थे।
अमन का पैगाम प्रसारित करने के दौरान बाबा और उनके साथियों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। अपना मकसद पूरा होने के बाद बाबा ने यहीं समाधि ली थी। फरीदी ने कहा कि कायम अली शाह की दरगाह गोमती नदी के तट पर मोतीमहल पुल के नीचे है जबकि हसरत नूर अली शाह की दरगाह चौक क्षेत्र में स्थित है।

अवध की गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल पेश करती मजार की रजिस्टर्ड कमेटी के 11 सदस्यों में एक नरेश कुमार ने बताया कि मजार पर चादर चढ़ाने के लिए हर जुमेरात को श्रद्धालुओं का ताँता लगा रहता है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के तत्कालीन विधायक लालजी टंडन ने मजार के रास्ते को पक्का कराने का वादा किया था जो उनके सांसद बनने के बाद भी अधूरा है।



और भी पढ़ें :