भारतीयों को पसंद आई ओबामा की दिवाली

भाषा|
ND
भारतीय अमेरिकी लोगों ने में दिवाली मनाने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की तारीफ की है और कहा है कि यह विविधता और समावेश के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है । ओबामा अमेरिका के ऐसे पहले राष्ट्रपति बन गए हैं जिन्होंने व्हाइट हाउस में दीपों के पर्व दिवाली का आयोजन किया।


बेथेस्डा मैरीलैंड निवासी और जानी मानी भारतीय अमेरिकी हस्ती शम्भू बानिक ने कहा है 'यह वास्तव में ऐतिहासिक अवसर है। दिवाली को आधिकारिक रूप से व्हाइट हाउस में लाने के लिए पूरा श्रेय ओबामा को दिया जाना चाहिए।’

अमेरिका में हालाँकि सरकारी तौर पर दिवाली मनाने की परंपरा की शुरुआत पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के प्रशासन ने की थी लेकिन उनके शासनकाल में दिवाली व्हाइट हाउस के पास स्थित ‘इंडियन ट्रीटी रूम’की इमारत में मनाई जाती थी। दिवाली समारोह में बुश खुद कभी उपस्थित नहीं रहे। इसमें उनके प्रशासन का एक वरिष्ठ अधिकारी शामिल होता था और को इसमें आमंत्रित किया जाता था।

बुधवार को ओबामा ने विभिन्न धर्मों और एशियाई देशों के लोगों को आमंत्रित कर दिवाली को एक वैश्विक आयाम प्रदान किया। इस समारोह में ओबामा सहित उनके मंत्रिमंडल के कम से कम आधा दर्जन सदस्य तथा उनके प्रशासन के लगभग सभी भारतीय अमेरिकी सदस्य शामिल हुए। दिवाली समारोह व्हाइट हाउस के ऐतिहासिक ईस्ट रूम में आयोजित किया गया।

इस अवसर पर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच ओबामा ने खुद ‘दीया’जलाया और वहाँ मौजूद लोगों का हाथ जोड़कर अभिवादन किया। भारतीय अमेरिकी समुदाय से संबंधित एक अन्य नेता तथा यूएस एशियन संगठन के प्रमुख डेविड फारिया ने कहा 'राष्ट्रपति ओबामा विविधता और समावेश के प्रति लगातार अपनी प्रतिबद्धता दिखा रहे हैं। व्हाइट हाउस के ईस्ट रूम में दिवाली का आयोजन भारतीय अमेरिकी समुदाय के लिए सम्मान की बात है।’
हिन्दू अमेरिकन फाउंडेशन ने भी एक बयान जारी कर ओबामा की इस पहल की सराहना की और कहा कि इससे पहले किसी अन्य अमेरिकी राष्ट्रपति ने ऐसा नहीं किया। (भाषा)



और भी पढ़ें :