दिल्ली गैंगरेप : सिंगापुर के डॉक्टर ने दी गवाही

नई दिल्ली| भाषा|
हमें फॉलो करें
FILE
नई दिल्ली। दिल्ली में पिछले साल 16 दिसंबर को सामूहिक बलात्कार की पीड़िता की कोशिकाओं और उतकों के नमूनों के स्लाइड का विश्लेषण करने वाले सिंगापुर-स्थित एक डॉक्टर ने अभियोजन पक्ष के गवाह के रूप में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से यहां दिल्ली की एक में अपनी गवाही दी।

यौन अपराधों के मामलों की सुनवाई के लिए स्थापित त्वरित अदालत की अध्यक्षता कर रहे अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश योगेश खन्ना ने पार्क वे लेबोरेटरी सर्विसेज लिमिटेड की मेडिकल डायरेक्टर एवं कंसल्टैंट पैथोलोजिस्ट डॉ. अंजुला थामस का बयान रिकॉर्ड किया।

अंजुला के बयान की रिकार्डिंग और उनसे पांच आरोपियों के वकील की जिरह कार्यवाही के दौरान ही पूरी हो गई जो एक घंटे से थोड़ा ज्यादा समय तक चली। सिंगापुर की डॉक्टर ने पीड़िता के उतकों के नमूनों के विश्लेषण के बाद उसकी हिस्टोपैथोलोजी रिपोर्ट तैयार की थी।

हिस्टोपैथोलोजी में रोग की अभिव्यक्तियों के अध्ययन के लिए खुर्दबीन से उतकों का परीक्षण किया जाता है। अदालत में बंद कमरे में रोज के आधार पर मामले की कार्यवाही चल रही है। उसने एक अन्य डॉक्टर की गवाही के लिए बुधवार की तारीख मुकर्रर की है। इस डॉक्टर ने सिंगापुर के अस्पताल में बलात्कार पीड़िता का इलाज किया था।

बर्बर यौन हमले का शिकार बनी पीड़िता को सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों के एक दल की सलाह पर घटना के दस दिन बाद 27 दिसंबर 2012 को विमान से सिंगापुर ले जाया गया था और वहां माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

बहरहाल, पीड़िता की 29 दिसंबर 2012 को उन घावों के चलते सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में मृत्यु हो गई जो छह लोगों के यौन हमले में हुए थे। मामले के छह आरोपियों में से एक को किशोर घोषित किया गया है और वह किशोर न्याय बोर्ड के समक्ष सुनवाई का सामना कर रहा है। अदालत ने मामले की अदालती कार्यवाही की मीडिया में रिपोर्टिंग पर प्रतिबंध लगा रखा है। (भाषा)



और भी पढ़ें :