राजनीति से दूर होना चाहते हैं आडवाणी

स्वामी विश्वेश्वर तीर्थ से मिले पूर्व उपप्रधानमंत्री

नई दिल्ली (भाषा)| भाषा| पुनः संशोधित सोमवार, 28 सितम्बर 2009 (19:35 IST)
हमें फॉलो करें
भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की राजनीतिक पारी वस्तुत: पूरी हो जाने संबंधी पार्टी के एक महत्वपूर्ण नेता की टिप्पणी के बाद अब एक बड़े हिन्दू धार्मिक नेता ने दावा किया है कि विपक्ष के नेता ने राजनीति से दूर होने की इच्छा जताई है।


पेजावार मठ के ने आडवाणी से भेंट के बताया कि (आडवाणी) स्वयं को राजनीति से दूर करने की इच्छा प्रकट की है, लेकिन वह इसके समय के बारे में स्पष्ट नहीं हैं। स्वामी ने कहा कि आडवाणी ने हालाँकि यह नहीं कहा कि वे राजनीति से संन्यास लेना चाहते हैं।
तीर्थ ने कहा कि आडवाणी द्वारा यह इच्छा जताए जाने पर उन्होंने उनसे कहा कि भाजपा और राजनीति को उन जैसे वरिष्ठ नेता के मार्गदर्शन की आवश्यकता है, इसलिए उन्हें दूर नहीं होना चाहिए।


भाजपा ने हालाँकि स्वामी के बयान को अधिक तवज्जो नहीं दी। पार्टी प्रवक्ता राजीव प्रताप रूड़ी ने कहा कि हम साधु-संतों से आशीर्वाद और सलाह लेने के लिए उनसे मिलते रहते हैं। स्वामीजी के विचार को राजनीतिक दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए। गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता मनोहन पर्रीकर ने एक सप्ताह पहले ही आडवाणी को पुराना अचार बताते हुए कहा था कि उनकी राजनीतिक पारी कमोबेश पूरी हो चुकी है।



और भी पढ़ें :