प्रदेश में खूब बरस रहे हैं मेघ

मालवा-निमाड़ अंचल के विभिन्न जिलों में वर्षा का क्रम चार दिन से जारी है। जिले में जोरदार वर्षा से कुंदा फिर उफन पड़ी, वहीं जिले के रानापुर में भारी वर्षा से क्षेत्र की तीन नदियों में बाढ़ आ गई और आवागमन अवरुद्ध हो गया। बड़वानी में करीब 5 इंच वर्षा से पुलों-रपटों पर पानी आ गया।


मंदसौर जिले के सीतामऊ में दो युवक नदी के तेज बहाव में बह गए। तेज के दौरान पुल से गिर जाने से शिवना नदी में गणेश भील बह गया। इसी प्रकार सीतामऊ का एक युवक रजनीश नीमा अपने मित्रों के साथ प्रतिमा विसर्जन के लिए बरखेड़ा गाँव स्थित चंबल नदी पर गया था। वहाँ उसका पैर फिसल गया और वह तेज बहाव में बह गया। शनिवार दोपहर उसका शव नदी में तैरता मिला।
वर्षा का दौर जारी : खरगोन जिले में वर्षा का दौर शनिवार को भी जारी रहा। जिले के खरगोन, सेगाँव, भगवानपुरा, महेश्वर और कसरावद विकासखंडों में जोरदार बारिश होने के समाचार हैं। शनिवार सुबह 8 बजे समाप्त 24 घंटों में महेश्वर विकासखंड में सर्वाधिक 78.6 मिमी वर्षा दर्ज हुई, वहीं कसरावद में 43 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई। भगवानपुरा में शनिवार को करीब 30 मिनट और सनावद में 1 घंटा बारिश हुई।

रपट पर पानी : बड़वानी में शनिवार प्रातः तक पिछले 24 घंटों में 125.3 मिमी (5 इंच) वर्षा हुई। सिलावद के समीप गोई नदी में रपट पर पानी आने से लगातार वाहनों का आवागमन बंद रहा। बावनगजा रोड पर रामकुल्ला नाले में पानी रपट के ऊपर से बहने लगा। राजघाट पर नर्मदा नदी का जलस्तर बढ़कर 120.900 मीटर हो गया। झाबुआ जिले में शुक्रवार रात को भी तेज बारिश हुई।

फिर उफन पड़ी शिप्रा : उज्जैन में लगातार तीन दिन से हो रही बारिश का दौर शनिवार को थोड़ा-सा थमा। पूरे दिन तेज धूप ने असर दिखाया तो शाम होते-होते एक बार फिर बादलों ने शहर पर डेरा डाल दिया। शाम 5.30 बजे के लगभग झमाझम बारिश का दौर शुरू हुआ तो शिप्रा उफन पड़ी।



और भी पढ़ें :