उद्योगों को महफूज बनाने के जतन

पीथमपुर घटना के बाद सरकार चौकन्नी

कानून-व्यवस्था की दिक्कत किसी औद्योगिक क्षेत्र में नहीं है। उद्योगों को हर सुविधा व सुरक्षा देने में हम आगे हैं। पीथमपुर में प्रतिभा सिंटेक्स की घटना एक पूर्व घटनाक्रम से उभरी थी।
सत्यप्रकाश, प्रमुख सचिव उद्योग, मप्र
सूत्र बताते हैं कि मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को उद्योगपतियों की समस्या और कानून-व्यवस्था से जुड़े मामलों पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। इसी तारतम्य में उद्योग विभाग ने पीथमपुर में गत सप्ताह प्रतिभा सिंटेक्स में तोड़फोड़ व गोलीचालन की घटना की रिपोर्ट गृह विभाग से माँगी है। प्रमुख सचिव सत्यप्रकाश ने इंदौर रेंज आईजी संजय राणा से भी शुक्रवार को इस बाबद चर्चा की है।

जरूरत से आधा बल : एशिया के सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्रों में शुमार पीथमपुर में एक पुलिस थाना है। इस पर ग्रामीण क्षेत्र का भी बोझ है। थाने के लिए 70 जवान जरूरी है, लेकिन अभी वहाँ 35 पुलिसकर्मी ही हैं। जिस दिन प्रतिभा सिंटेक्स में घटना हुई, नियंत्रण में इसलिए कठिनाई भी हुई। अब आईजी ने पीथमपुर में एक और थाना या चौकी स्थापित करने और वाहनों की सिफारिश तैयार की है।

भोपाल (ब्यूरो)| ND| पुनः संशोधित शनिवार, 8 अगस्त 2009 (09:08 IST)
हमें फॉलो करें
मप्र के महत्वपूर्ण की एक फैक्टरी में जबरदस्त तोड़फोड़ की घटना के बाद उभरे उद्योगपतियों के आक्रोश से सरकार खासी चौकन्नी हो गई है। विभाग ने गृह विभाग से इस घटना के संबंध में समूची जानकारी तलब की है, वहीं पीथमपुर में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई भी शुरू होने वाली है।
इंवेस्टर्स फ्रेंडली छवि गढ़ने में जुटे मप्र को ऐसी छोटी-सी भी घटना से झटका पहुँचता है। पीथमपुर में यह डर इसलिए भी ज्यादा है, क्योंकि वहाँ 90 फीसद उद्योगपति मप्र से बाहर से आकर यहाँ कारोबार कर रहे हैं। ऐसी घटनाओं की "माउथ पब्लिसिटी" ही अन्य बाहरी निवेशकों में खौफ पैदा कर देती है। (नईदुनिया)



और भी पढ़ें :