अब तक 115 अमेरिकी बैंक धराशायी

न्यूयॉर्क (भाषा)| भाषा| पुनः संशोधित रविवार, 1 नवंबर 2009 (14:50 IST)
हमें फॉलो करें
भले ही अमेरिकी अर्थव्यवस्था में सुधार हो रहा है, लेकिन बैंकों के धराशायी होने का सिलसिला थमा नहीं है। वर्ष 2009 के पहले 10 महीने में 115 धराशायी हुए हैं।


यह इस बात का संकेत है कि देश की वित्तीय प्रणाली अभी भी संकट से नहीं उबरी है। जहाँ पिछले साल केवल 25 बैंक बंद हुए थे, वहीं इस बार इसमें चार गुना से अधिक की बढ़ोतरी हुई है।

अधिकारियों ने कहा कि 30 अक्टूबर को 9 बैंक धराशायी हुए थे। इनमें बैंक यूएसए, कम्युनिटी बैंक आफ लेमोंट, सैन डियागो नेशनल बैंक, कैलीफोर्निया नेशनल बैंक, पैसेफिक नेशनल बैंक, पार्क नेशनल बैंक, सिटीजन्स नेशनल बैंक, मैडिसोनविले नेशनल बैंक और नार्थ ह्यूस्टन बैंक शामिल हैं।

फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (एफडीआईसी) के अनुसार इन बैंकों के धराशायी होने से उसके जमा बीमा कोष पर लगभग 2.5 अरब डॉलर का बोझ पड़ेगा। एफडीआईसी के पास करीब 8000 अमेरिकी बैंकों की जमा का बीमा है।


वर्ष 1992 के बाद यह पहली बार हुआ है, जब 115 बैंक धराशायी हुए हैं। 1992 में 181 बैंकों को अपना कारोबार बंद करना पड़ा था।



और भी पढ़ें :