हिंदी कविता के एक युग का अवसान

WD|
उन्होंने शराब और मयखाने के माध्यम से प्रेम, सौंदर्य, दर्द, दुख, मृत्यु और जीवन की सभी झाँकियों को शब्दों में पिरोकर जिस खूबसूरती से पेश किया, उसका नमूना कहीं और नहीं मिलता। उन्होंने हमेशा आम आदमी के लिए सरल भाषा में लिखा मधुशाला के बाद से काव्य में सरल भाषा का बोध हुआ।


डॉ. बच्चन किसी साहित्य आंदोलन से नहीं जुड़े और हर विधा को अपनाना। यश चोपड़ा की फिल्म 'सिलसिला' का सुपरहिट गीत 'रंग बरसे भीगे चुनरवाली, रंग बरसे..' उनके रूमानी कलम की कहानी कहता है। उन्होंने अग्निपथ सहित कुछ फिल्मों के लिए गीत लिखे।

डॉ. बच्चन को उनकी कृति 'दो चट्टानें' पर 1968 में हिन्दी कविता का साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला। बिड़ला फाउंडेशन ने उनकी आत्मकथा के लिए उन्हें सरस्वती सम्मान दिया था और 1968 में ही उन्हें 'सोवियतलैंड नेहरू और एफ्रो-एशियाई सम्मेलन के कमल पुरस्कार से भी नवाजा गया था। साहित्य सम्मेलन ने उन्हें साहित्य वाचस्पति पुरस्कार दिया। राष्ट्रपति ने पद्म भूषण से सम्मानित किया।
दशकों तक हिंदी की सेवा करने वाले डॉ. बच्चन को उनकी आत्मकथा पर 1991 में के के बिड़ला फाउंडेशन की ओर से तीन लाख रुपए का सबसे बड़ा 'सरस्वती सम्मान' पुरस्कार दिया गया। डॉ. बच्चन ने अपने काव्यकाल के आरंभ से 1983 तक कई श्रेष्ठ कविताएँ लिखीं जिनमें हिंदी कविता को नया आयाम देने वाली 'मधुशाला' सबसे लोकप्रिय मानी जाती है।

उनके समग्र कविता संग्रह में मधुशाला से लेकर मधुकलश, निशा निमंत्रण, आकुल अंतर, बंगाल का काल, खादी के फूल, धार के इधर-उधर, त्रिभंगिमा, बहुत दिन बीते, जाल समेटा, प्रणय पत्रिका, एकांत संगीत, मिलन यामिनी, बुध व नाचघर, सूत की माला, आरती और अंगारे आदि प्रमुख हैं। डॉ. बच्चन की कविताओं ने हमेशा सभी प्रवृत्तियों का प्रतिनिधित्व किया।
अपनों के बीच बाबूजी कहे जाने वाले डॉ. बच्चन की तीन खंडों की आत्मकथा और नौ खंडों में बच्चन रचनावली प्रकाशित हुई है। एक ओर उन्होंने महान अंग्रेजी नाटककार शेक्सपीयर के दुखांत नाटकों का हिन्दी अनुवाद किया तो दूसरी ओर 'चौंसठ रूसी कविताएँ' के नाम से उनका रूसी कविताओं का हिंदी संग्रह भी प्रकाशित हुआ। उनकी कविताओं में आरंभिक छायावाद और रहस्यवाद, प्रगतिवाद, प्रयोगवाद और नई कविताएं का एक साथ समावेश रहा।
डॉ. बच्चन के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और फिर इंदिरा गांधी से अच्छे संबंध रहे। अमिताभ बच्चन के लोकप्रियता की बुलंदी पर होने के बाद भी हरिवंश राय को हमेशा से ही डॉ. बच्चन कह कर बुलाया जाता रहा। अमिताभ भी कई सार्वजनिक अवसरों पर उनकी कविताएं पढ़ते जिनमें फरमाइश के साथ मधुशाला जरूर होती, लेकिन अमिताभ के शब्दों में उनके पिता की एक कविता जीवन के असली रंग को प्रदर्शित करती है।
जीवन की आपाधापी में
कब वक्त मिला, कुछ बैठ सोच सकूँ
अब तक जो कहा, किया
माना उसमें क्या भलाबुरा।



और भी पढ़ें :