दसवीं के बाद कैसे चुने सब्जेक्ट?

हाई स्कूल के बाद क्या करें?

FILE
दसवीं के बाद अक्सर छात्र इस कशमकश में रहते कि वे कौन-सा सब्जेक्ट चुनें जिससे उन्हें करियर के लिए बेहतर अवसर मिल सकें। कई बार छात्र बिना सोचे समझे विषय का चयन कर लेते हैं। जिससे बाद में उन्हें पछताना पड़ता है। आगे चलकर पछताना न पड़े इसके लिए जरूरी है सही समय पर सही विषय का चयन करना। अगर आपके मन में भी यह उलझन है तब नीचे लिखी कुछ जरूरी बातों पर ध्यान दें :


- विषय का चयन करते समय अपनी रुचि का विशेष ध्यान दें। महज अच्छे स्कोप के चक्कर में कोई ऐसा विषय न चुनें जिसमें आपकी बिल्कुल भी रुचि न हो।

- विषय का चयन करते समय अपने पैरेंट्स, टीचर और बड़ों की सलाह अवश्य लें।


- हर जगह से अलग-अलग सलाह मिलने पर कंफ्यूज न हो, अपनी बुद्धि और विवेक का इस्तेमाल करें।

- अगर आप कुछ भी डिसाइड नहीं कर पा रहे हैं तब करियर काउंसलर की मदद लें।

- किसी भी विषय को लेने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी हासिल करें कि 12वीं के बाद उसका क्या स्कोप है, उससे रिलेडेट अच्छे कॉलेज के बारे में पता करें।

- अपना उद्देश्य निश्चित करें कि भविष्य में आपको क्या बनना है और उसी गोल की ओर बढ़ें। भेड़ चाल में न चलें।
- अगर आप अपनी हॉबी को अपना प्रोफेशन बनाना चाहते हैं तब उसी से संबंधित विषय का चयन करें।

- अपने दोस्तों की देखा-देखी न करें।

- आप जो विषय लेना चाहते हैं उसके बारे में अपनी ताकत, कमजोरी, संभावनाएं और खतरों के आधार पर अपना आकलन जरूर करें।

- अपनी ताकत को बढ़ाएं और अपनी कमजोरियों को कम करने की कोशिश करें।
- अतिरिक्त विषय का चयन तभी करें जब आप उस पर ध्यान दें सकें अन्यथा सिर्फ एक ही विषय का चयन करें और उसी पर अपना ध्यान केंद्रित करें।



और भी पढ़ें :