होस्टल में रहना जीवन भर की सीख

वेबदुनिया डेस्क

WD| पुनः संशोधित सोमवार, 7 मई 2012 (15:10 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
कई युवाओं को अपनी पढ़ाई या अपना बनाने के लिए माता-पिता से दूर होस्टल में रहना पड़ता है। होस्टल में रहने के दौरान युवाओं में ‍आत्मनिर्भरता आ जाती है। वे उनमें निर्णय लेने की क्षमता का भी विकास होता है। होस्टल में रहने के दौरान कई युवा फ्रेंड सर्कल में बुरी आदतों को भी अपना लेते हैं, जिससे उनके जीवन की दिशा बदल जाती है। यह युवाओं के जीवन का ऐसा समय होता है जो उनके जीवन का आधार बन सकता है।


आइए जानते हैं कि के क्या फायदे हैं।

-अपनी लाइफ की जरूरी छोटी-बड़ी चीजों को जुटाने और उन्हें मैनेज करने का उन्हें एक्सपीरियंस हो जाता है।
-परिजनों के दूर रहने के कारण हर छोटी और बड़ी समस्याओं को खुद ही निपटना होता है। इससे विपरीत परिस्थितियों से जुझने और लड़ने की क्षमता भी उनमें आ जाती है।
-होस्टल में रहने के दौरान अलग-अलग फील्ड के लोगों के साथ रहने और उनके बारे में जानने का मौका मिलता है। इससे उनमें व्यावहारिक गुण का विकास होता है।
- रुपयों आदि का मैनेज भी खुद करना पड़ता है, इससे धन की उपयोगिता उन्हें समझ में आ जाती है।
- होस्टल में रहकर स्टूडेंट लाइफ से ही टाइम मैनेजेमेंट सीख लेते हैं, जो सारी जिंदगी काम आता है।
- होस्टल में अन्य साथियों के साथ रहने से टीम भावना का विकास होता है, जिससे जीवन में सबको साथ लेकर कार्य करने की क्षमता विकसित होती है।



और भी पढ़ें :