भाजपा में अंतर्कलह का कारण

राजनाथ के अशुभ ग्रह

Bhartiya Janta Parti
Author पं. अशोक पँवार 'मयंक'|
हमें फॉलो करें
ND

भारतीय जनता पार्टी का गठन शुभ ग्रहों कि स्थिति में न होना व भाजपा के अध्यक्ष का भी शनि-मंगल से पीड़ित होना पार्टी में का कारण बनता जा रहा है। मुख्य मुद्दा भाजपा का सत्ता में न आना ही रहा।


भाजपा के गठन का लग्न मिथुन है वहीं भाजपा के अध्यक्ष का भी जन्म लग्न मिथुन है। भाजपा गठन लग्न में भाग्य का स्वामी शनि व राशि स्वामी मंगल दशम भाव के स्वामी गुरु के साथ होकर शनि मंगल का विस्फोटक योग बना रहा है।

Bhartiya Janta Parti
ND
वहीं की जन्म लग्न में मंगल लग्न में है। शनि चतुर्थ भाव में कन्या का शनि है। मंगल की शनि पर चतुर्थ दृष्टि पड़ रही है। यही कारण जनता के बीच वे अपना जनाधार कायम नहीं कर पाए।

मैंने पहले अपने एक लेख में कहा था कि राजनाथ के घोड़े पर सवार सत्ता सुख पाना मुश्किल है सो सही साबित हुई। वैसे गुरु के दशम में स्वराशि के होने के कारण आपको संसद में बने रहने का योग बना रहा। जब तक राजनाथ हैं तब तक पार्टी मजबूत नहीं होगी। इसमें ऐसा व्यक्ति आए जिसकी पत्रिका सशक्त हो तभी जाकर पार्टी का भला हो सकता है।



और भी पढ़ें :