0

मां शैलपुत्री आरती : नवरात्रि के पहले दिन इस आरती से प्रसन्न होंगी देवी

रविवार,सितम्बर 25, 2022
0
1
Jivitputrika Vrat 2022 इस साल 18 सितंबर को जितिया या जीवित्पुत्रिका का व्रत रखा जा रहा है। इस दिन यानी अष्टमी तिथि के दिन निर्जला व्रत रखा जाता है। जीवित्पुत्रिका व्रत के पूजन में जीमूतवाहन की व्रत कथा तथा आरती का पाठ करने का महत्व है। आइए जानते हैं ...
1
2
Pitru Paksha 2022 : श्राद्ध पक्ष में पितृ दोष निवारण हेतु अत्यंत चमत्कारी मंत्र पाठ माना जाने वाला 'पितृ-सूक्तम्' स्तोत्र है। श्राद्ध के सोलह दिनों में इसका पाठ करने से जहां पितृ प्रसन्न होकर अपना शुभाशीष देते हैं, वहीं यह पाठ जीवन की सर्व बाधाओं को ...
2
3
ganesha worship 31 अगस्त 2022 से घर-घर में विघ्नहर्ता श्री गणपति बप्पा का आगमन होगा। 10 दिनों तक गणेश जी की सेवा करके हर कोई पुण्य कमाएगा। लेकिन इन सबके साथ यदि आप प्रतिदिन श्री गणेश चालीसा का पाठ करेंगे तो निश्चित ही आपका जीवन खुशहाली से भर जाएगा। ...
3
4
Prayer to Lord Ganesha हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश की पूजा के बिना कोई भी पूजा पूरी नहीं मानी जाती। अत: इस बार गणेशोत्सव के खास दिनों में इन 3 खास आरतियों से करें भगवान श्री गणेश को प्रसन्न। यहां पाठकों के लिए विशेष तौर पर प्रस्तुत हैं भगवान ...
4
4
5
Parvati Chalisa On Haritalika Teej 2022 हरतालिका तीज के दिन आदिशक्ति मां पार्वती का पवित्र चालीसा का पाठ अवश्य करना चाहिए। देवी पार्वती बहुत दयालु हैं और उनकी सच्चे मन से आराधना करने से वे हमारी सभी गलतियों को तुरंत माफ करके हमें जीवन में नित नई ...
5
6
Hartalika Teej Vishesh Devi Parvati Ji Ki Aarti हरतालिका तीज के दिन शिव जी के साथ-साथ देवी पार्वती का पूजन किया जाता है। आइए जानते हैं इस दिन कौनसी आरती करने से प्रसन्न होंगी माता पार्वती। पढ़ें शिवप्रिया पार्वती की पवित्र आरती। Parvatiji Ki Aarti- ...
6
7
Janmashtami Special Krishna Chalisa कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर पढ़ें यह श्री कृष्ण चालीसा। भगवान बंसीधर देंगे आपको धन-वैभव, यश, सुख-समृद्धि, पराक्रम, सफलता, खुशी, संतान, नौकरी और प्रेम का वरदान। जन्माष्टमी के दिन पढ़ना ना भूलें यह पवित्र पाठ- ...
7
8
Aarti Kunj Bihari Shri Girdhar Krishna Murari Ki : जन्माष्टमी विशेष : भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव पर पढ़ें कृष्ण जी की प्रिय आरती-आरती कुंजबिहारी की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की। गले में बैजन्तीमाला बजावैं मुरलि मधुर बाला॥... Krishna jee ki aarti
8
8
9
2022 Tulsidas Jayanti आज गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती है। तुलसीदास जी ने श्रीरामभक्त हनुमानजी की कृपा से ही रामचरितमानस को संपूर्ण किया था। साथ ही उन्होंने सुंदरकांड, हनुमान चालीसा, हनुमान साठिका, हनुमान बाहुक, बजरंग बाण, संकटमोचन हनुमानाष्टक तथा ...
9
10
Sawan Maas 2022 14 जुलाई 2022 से श्रावण मास का शुरू हो गया है तथा पूरे श्रावण माह में शिव जी का विशेष पूजन-अर्चन किया जाएगा। इन दिनों शिव जी की कृपा पाने के लिए शिवलिंग पर हमेशा गंगाजल अथवा दूध मिले जल से अभिषेक करने की मान्यता है। शिव जी के पूजन ...
10
11
Shiv Chalisa in Hindi श्रावण मास में शिव चालीसा का पाठ पढ़ने अथवा सुनने से जीवन में चमत्कारिक लाभ प्राप्त होते हैं। यह पाठ जहां मनुष्य के सारे कष्टों को दूर करने वाला माना गया है, वहीं इस पाठ से भगवान शिव जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है तथा उनके ...
11
12
इस बार 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा है। गुरु पूर्णिमा के दिन इस विशेष आरती को करने से गुरु प्रसन्न होता हैं। यहां पढ़ें आरती-
12
13
वर्तमान समय में सभी लोगों पर काम का दबाव बना रहता है। ऐसे में दुर्गा सप्तशती का संपूर्ण पाठ कर पाना बहुत से लोगों के लिए कठिन हो सकता है। इस स्थिति में दुर्गा सप्तशती के संपूर्ण पाठ का फल प्राप्त करने के लिए एक आसान उपाय का वर्णन दुर्गा सप्तशती ...
13
14
भगवान विष्णु की पूजा और प्रार्थना तथा विष्णुसहस्रनाम का पाठ करने वाले व्यक्ति को यश, सुख-ऐश्वर्य, संपन्नता, सफलता, आरोग्य एवं सौभाग्य प्राप्त होता हैं तथा सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। वैसे तो श्रीविष्णु के नामों का पाठ प्रतिदिन किया जा सकता ...
14
15
"ॐ जय शिव ओंकारा" की आरती आप शिव जी मानते आए हैं लेकिन सच तो है कि यह केवल शिवजी की आरती नहीं है बल्कि ब्रह्मा विष्णु महेश तीनों की आरती है ...
15
16
Gupt Navratri 2022 गुप्त नवरात्रि इस वर्ष 30 जून से शुरू हो रही है। नवरात्रि के 9 दिनों तक श्री दुर्गा चालीसा का प्रतिदिन पाठ करने से मां दुर्गा प्रसन्न होकर हर संकट दूर करती है। यहां सभी पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं पवित्र श्री दुर्गा चालीसा।
16
17
गुप्त नवरात्रि में प्रतिदिन सुबह-सायंकाल देवी दुर्गा की विशेष पूजा-अर्चना के बाद श्रद्धापूर्वक आरती करने से मां प्रसन्न होती है। यहां पढ़ें दुर्गा मैया की आरती-Durga Maa ki Aarti
17
18
Ganga Chalisa जय जग जननि अघ खानी, आनन्द करनि गंग महरानी । जय भागीरथि सुरसरि माता, कलिमल मूल दलनि विखयाता ।।
18
19
आरती कीजै नरसिंह कुंवर की। वेद विमल यश गाऊं मेरे प्रभुजी।। पहली आरती प्रह्लाद उबारे, हिरणाकुश नख उदर विदारे।
19