0

गणेश आरती : बुधवार के दिन इस शुभ आरती से होते हैं गणपति प्रसन्न

बुधवार,दिसंबर 1, 2021
0
1
Vaikunth Chaturdashi ki Aarti वैकुंठ चतुर्दशी और पूर्णिमा के दिन 'ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे' इस आरती से श्रीहरि विष्णु प्रसन्न होकर देंगे खुशहाली का आशीर्वाद। यहां पढ़ें...
1
2
Tulsi Chalisa हर साल कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि के दिन देवउठनी एकादशी और तुलसी विवाह किया जाता है। इस दिन श्री तुलसी चालीसा पढ़ने का बहुत अधिक महत्व है।
2
3
Dev Uthani Ekadashi 2021 दीपावली के बाद आने वाली एकादशी को देव प्रबोधिनी एकादशी कहते हैं। इस दिन तुलसी विवाह होता है। माता तुलसी का विवाह भगवान शालिग्राम के साथ किया जाता है। यहां पढ़ें श्री तुलसी जी की आरती-
3
4
शुक्रवार को गोपाष्टमी का पर्व मनाया जा रहा है। यहां पढ़ें श्री गौमाता की पवित्र आरती- ॐ जय जय गौमाता, मैया जय जय गौमाता, जो कोई तुमको ध्याता, त्रिभुवन सुख पाता, सुख समृद्धि प्रदायनी, गौ की कृपा मिले
4
4
5
छठ व्रत सूर्यदेव की पूजा का पर्व है। चार दिवसीय इस छठ पर्व के इन दिनों में आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करने से यह जहां हर तरह के शत्रु से मुक्ति दिलाता है, वहीं नौकरी में पदोन्नति, व्यापार में सफलता, धन, प्रसन्नता,
5
6
इन दिनों छठ महापर्व जारी है। इन दिनों सूर्यदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए निम्न पाठ को अवश्य करना चाहिए। यहां पढ़ें छठी मैय्या की आरती, मंत्र, स्तुति, लोकगीत, सूर्य स्तोत्र, सूर्य चालीसा, आदि सबकुछ एक ही स्थान पर-
6
7
छठ पर्व के दौरान सूर्य की उपासना करने का विशेष महत्व माना गया है। सूर्य की आराधना करते समय श्री सूर्य चालीसा/Surya Chalisa का पाठ बहुत ही लाभदायी माना गया है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं सूर्य चालीसा/Surya Chalisa का संपूर्ण पाठ, अवश्‍य पढ़ें...
7
8
सोमवार, 8 नवंबर से चार दिवसीय छठ महापर्व का शुभारंभ हो गया है। इन दिनों सूर्यदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए निम्न पाठ को अवश्य करना चाहिए। यहां पढ़ें सूर्य स्तोत्र, सूर्य चालीसा, सूर्यदेव की आरती,
8
8
9
श्री विरंचि कुलभूषण, यमपुर के धामी। पुण्य पाप के लेखक, चित्रगुप्त स्वामी॥ सीस मुकुट, कानों में कुण्डल अति सोहे। श्यामवर्ण शशि सा मुख, सबके मन मोहे॥ भाल तिलक से भूषित, लोचन सुविशाला। शंख सरीखी गरदन, गले में मणिमाला॥
9
10
भाई दूज पर यमुना माता की आरती उतारी जाती है। यमुना जी की आरती पढ़ने या सुनने मात्र से ही भगवान श्री कृष्ण जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। यमुना जी की आरती सच्चे मन से करने से यम का भय खत्म हो जाता है।
10
11
ॐ जय जय गौमाता, मैया जय जय गौमाता...गौ माता की आरती 33 करोड़ देवताओं को प्रसन्न करती है क्योंकि गाय माता के शरीर में समस्त देवों का वास माना गया है।
11
12
माता लक्ष्मी या महालक्ष्मी की पूजा शुक्रवार, महालक्ष्मी व्रत, दीपावली और कार्तिक मास में की जाती है। यहां पर मां लक्ष्मी की पूजा के समय स्तुति पाठ, स्त्रोत्र, लक्ष्मी चालीसा का पाठ करने के बाद माता लक्ष्मी की आरती का वाचन किया जाता है। आओ पढ़ते हैं ...
12
13

भगवान धन्वंतरि स्तोत्र

सोमवार,नवंबर 1, 2021
धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि अखंड लक्ष्मी का वरदान देते हैं। स्थायी समृद्धि का आशीष देते हैं लेकिन उन तक आपकी आराधना भी तो पहुंचनी चाहिए।
13
14

भगवान धन्वंतरि जी की आरती

बुधवार,अक्टूबर 27, 2021
Dhanvantari Arti in Hindi- धन्वंतरि चिकित्सा के देवता माने जाते हैं। दीपावली पर्व के पहले दिन यानी धनतेरस को भगवान धन्वंतरि की पूजा-अर्चना होती है। यहां पढ़ें धनतेरस की विशेष आरती-
14
15
Shri Yamuna ji Aarti in Hindi दीपावली के बाद आने वाले भाई दूज पर्व पर यमुना माता की आरती उतारी जाती है। यमुना जी की आरती पढ़ने या सुनने मात्र से ही भगवान श्री कृष्ण जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
15
16
दीपावली पर महालक्ष्मी व्रत पूजा के समय पढ़ें धन की देवी महालक्ष्मी जी की आरती और उनके पौराणिक मंत्र- ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निस दिन सेवत हर-विष्णु-धाता ॥ॐ जय...
16
17

इंद्रकृत लक्ष्मी स्त्रोत

शनिवार,अक्टूबर 23, 2021
माता लक्ष्मी या महालक्ष्मी की पूजा शुक्रवार, महालक्ष्मी व्रत, दीपावली और कार्तिक मास में की जाती है। इस अवसर पर मां लक्ष्मी की पूजा के बाद पढ़ें इंद्रकृत लक्ष्मी स्त्रोत। आओ पढ़ते हैं इंद्रकृत लक्ष्मी स्त्रोत ( Lakshmi Stotram )।
17
18

लक्ष्मी जी की आरती

शनिवार,अक्टूबर 23, 2021
माता लक्ष्मी या महालक्ष्मी की पूजा शुक्रवार, महालक्ष्मी व्रत, दीपावली और कार्तिक मास में की जाती है। इस अवसर पर मां लक्ष्मी की पूजा के बाद माता मां लक्ष्मीजी की आरती की आती है। आओ पढ़ते हैं मां लक्ष्मीजी की आरती ( Lakshmi Aarti in Hindi )।
18
19

मां लक्ष्मी चालीसा

शनिवार,अक्टूबर 23, 2021
माता लक्ष्मी या महालक्ष्मी की पूजा शुक्रवार, महालक्ष्मी व्रत, दीपावली और कार्तिक मास में की जाती है। इस अवसर पर मां लक्ष्मी की पूजा के समय मां लक्ष्मी चालीसा का पाठ किया जाता है। आओ पढ़ते हैं मां लक्ष्मी चालीसा ( Lakshmi Chalisa Paath ) ।
19