काश कोई रिश्ता ऐसा हो...

WDWD
उस रिश्ते को क्या नाम दोगे
जो मोहब्बत की सरहदों में शामिल नहीं
तुझे दोस्त कहूँ तो कैसे
मेरी दोस्ती के दरिया में साहिल नहीं
तुझे भाई कहूँ तो लगता है
भावनाओं को टटोलने से कुछ हासिल नही

काश कोई रिश्ता ऐसा हो
जो लहू के रिश्ते से हो पाक
दोस्ती की सीमाओं से हो आजाद
आग के दरिया से परे
खुद पर रखता हो विश्वास

जो खुद अपरिभाषित रहकर
हमें सिखा जाएँ कुछ नई परिभाषाएँ,
निराश हो रही जिन्दगी को दे जाएँ आशाएँ,
जब मैं कहूँ ‘तु’ तो तुम्हारा सर्वस्व छा जाएँ

मैं अपने मैं संकुचित ना रह जाऊँ
कुछ अनकही भावनाओं को छू पाऊँ
मेरे दोस्तों से तुम्हें शिकायत ना हो
तुम्हारे यारों से ना मुझको हो गिल
हर उस एक से कुछ बाँटा ही है
जो भटके हुए समय में मिला

मगर इस बार
वक्त भटका हुआ नहीं है
अपनी ही भावनाओं में उलझा हुआ नहीं है
बस तलाश है तो इक नाम की
फिक्र नहीं है मुझको अंजाम की

हाथ बढ़ाने से रिश्ते नहीं बढ़ते
बात बढ़ाने से काफिये नहीं मिलते
आओ हम मिलकर समय को बढ़ाएँ
शैफाली शर्मा|
रिश्तों को मानवीय सरहदों से आजाद कर जाएँ



और भी पढ़ें :