आजादी के अमृत महोत्सव पर 75 वर्ष पूर्ण कर चुके वरिष्ठ नागरिकों का सम्मान

Author संदीप श्रीवास्तव| Last Updated: मंगलवार, 16 अगस्त 2022 (19:54 IST)
हमें फॉलो करें
अयोध्या। आजादी का 75वां महापर्व हर एक भारतवासी पूरे विश्व में बड़े ही धूमधाम और उत्साह के साथ मना रहा है और स्वयं को सौभाग्यशाली मान रहा है कि वह इतने बड़े दिन को देख रहा है। इसी कड़ी में अयोध्या में भी अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद, अयोध्या द्वारा 15 अगस्त को आजादी की 75वीं वर्षगांठ 'अमृत महोत्सव' के महापर्व को कुछ इस प्रकार से मनाया गया कि जो हमेशा यादगार रहेगा उन महान 75 विभूतियों को जिन्होंने अपने जीवन के 75 बसंत देखे हैं।

जी हां, इस समाजसेवी संस्था ने अयोध्या नगर के सर्व समाज के 75 बुजुर्गों, जो 75 वर्ष पूरे कर चुके हैं, को एक मंच पर एकत्रित कर सम्मान करने का कार्यक्रम आयोजित किया है, जो कि अयोध्या के आरबीएस होटल जनौरा में संचालित किया गया। इसके मुख्य आयोजक अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद के नगर अध्यक्ष (भूपेंद्र सिंह) व नगर उपाध्यक्ष (अनिल सिंह) रहे हैं।
इसमें मुख्य रूप से अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद, अयोध्या के जिला अध्यक्ष राजेश कुमार सिंह, जिला महामंत्री सूर्यभान सिंह, मीडिया प्रभारी (नगर) अमरदीप सिंह (रिंकू भैया), अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद के समस्त पदाधिकारी मौजूद रहे। इस कार्यक्रम द्वारा अमृत महोत्सव के पावन पर्व पर एक नई परंपरा का शुभारंभ किया गया है।

संस्था के जिलाध्यक्ष राजेश सिंह ने 'वेबदुनिया' से बात करते हुए बताया कि जैसा कि हमारे प्रधानमंत्री मोदी व उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगीजी का सपना है कि भारत में रहने वाले सभी बुजुर्गों का सम्मान हो, उसी पहल को अयोध्या की धरती से मुख्य रूप देते हुए अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद द्वारा इस कार्यक्रम का आयोजन व शुभारंभ किया जा रहा है।
इसी कड़ी में नगर उपाध्यक्ष अनिल सिंह ने भी 'वेबदुनिया' को जानकारी देते हुए कहा कि हमारे बुजुर्ग हमारे लिए एक बहुत बड़ी धरोहर के रूप में अमूल्य हैं जिनसे हम हैं। ये नहीं तो हम भी नहीं। इसलिए हम सभी को अपने हर बुजुर्ग का हमेशा सम्मान करना चाहिए। नगर अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए कहा कि हमारी संस्था द्वारा आजादी के 75वें अमृत महोत्सव के महापर्व पर एक नई परंपरा की नींव रखने का शुभारंभ किया गया है।
इस अवसर पर प्रमुख रूप से दुर्गेश सिंह, सुरेश सिंह, सूर्यभान सिंह, समर बहादुर सिंह, रवीन्द्र सिंह, राजेन्द्र सिंह, दादा गुरु प्रसाद सिंह, भानु सिंह, शुभेन्द्र सिंह, अमन सिंह व प्रिंस सिंह आदि उपस्थित रहे।



और भी पढ़ें :