सपा सांसद की कॉमन सिविल कोड को लेकर बीजेपी को हराने की अपील, कहा- मुसलमान दूसरी शादी नहीं कर सकेंगे

हिमा अग्रवाल| Last Updated: गुरुवार, 3 फ़रवरी 2022 (19:40 IST)
उत्तरप्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव होने वाले है जिसके चलते सभी दलों के नेताओं ने जुबानी धार तेज कर ली है। राजनीतिक पार्टियों के नेताओं को अब ईश्वर, अल्लाह याद आ रहे हैं। सत्ता पक्ष से लेकर विपक्ष तक भगवान को चुनावी समर में लाकर मतदाता के मन को बदलने की कोशिश में लगे है। भारतीय जनता पार्टी को लेकर विपक्ष भयभीत है जिसके चलते गठबंधन हो रहा है। विपक्ष के दिग्गज नेता अपनी कौम को नसीहत दे रहे हैं।
ALSO READ:

UP Election 2021: रामलला मंदिर के बहाने वोट बैंक साधने की कोशिश, विपक्ष ने साधा निशाना

मुरादाबाद में ने कहा कि हमने तीन तलाक, धारा 370 और CAA का विरोध किया और बर्दाश्त किया लेकिन सरकार जो अब कानून लाने वाली है, अगर ये कानून आ गया तो मुस्लिम पर्सनल लॉ खत्म हो जाएंगे, वक्फ खत्म हो जाएंगे, आप दूसरी शादी नहीं कर पाओगे। चुनाव आ रहे हैं और आप केवल भाजपा को हराने के लिए वोट करें।


पीतल नगरी मुरादाबाद से समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. ने मतदाताओं को अल्लाह का वास्ता देते हुए एकजुट होकर भाजपा को की है। एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कॉमन सिविल कोड पर एक बयान दिया, जो अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। रविवार रात सपा सांसद एसटी हसन ने कहा कि बीजेपी देश के मुसलमानों को मजदूर बनाकर रखना चाहती है। वह बहुत जल्दी ही कॉमन सिविल कोड लाने वाली है जिस पर अभी चर्चा भी हुई है। यदि यह कॉमन सिविल कोड आ गया तो मुसलमानों को कई विशेष अधिकारों से हाथ धोना पड़ेगा।


उन्होंने कहा कि अगर ऐसा हो जाता है तो हम लोग अब आगे दूसरी शादी भी नहीं कर सकेंगे इसलिए मैं कौम के वास्ते आपसे अपील करना चाहता हूं कि चुनाव आने वाले हैं, अल्लाह के वास्ते इसमें बंट मत जाना। मुसलमानों का सिर्फ एक ही मकसद होना चाहिए कि बीजेपी को हराना है। एसटी हसन के दिए गए बयान पर अब सियासत गरमानी शुरू हो गई है।
सपा सांसद बोले कि हमने सरकार के तीन तलाक, धारा 370 और CAA का विरोध किया और उसे बर्दाश्त भी किया है, लेकिन भाजपा सरकार अब जो कानून कॉमन सिविल कोड लाने वाली है, अगर ये कानून आ गया तो मुस्लिम पर्सनल लॉ खत्म हो जाएंगे, वक्फ खत्म हो जाएंगे, आप दूसरी शादी नहीं कर पाओगे। मुस्लिमों के शैक्षणिक संस्थानों का माइनॉरिटी स्टेटस भी समाप्त हो जाएगा जिसके चलते मुस्लिम संस्थाओं में 50 प्रतिशत मुस्लिमों के पढ़ने का अधिकार भी छिन जाएगा। चुनाव नजदीक आ रहे हैं, आप केवल भाजपा को हराने के लिए वोट करें। मुसलमानों को आगाह करते हुए एसटी हसन ने नसीहत दी कि भाजपा ने देश के अंदरुनी हालात बेहद खराब कर दिए हैं और इसका असर अभी दिखाई नहीं दे रहा है और यह आगामी 10 वर्ष बाद दिखाई देगा।



और भी पढ़ें :