यूपी चुनाव : प्रयागराज में बोले ओवैसी- UP की जेलों में सड़ रहे हैं हजारों अतीक अहमद

हिमा अग्रवाल| Last Updated: शनिवार, 25 सितम्बर 2021 (23:38 IST)
में 2022 का चुनाव नजदीक आते ही सियासत गर्माने लगी है। हर पार्टी बीजेपी को कुर्सी से उतारने के लिए अपने चेहरे मैदान में ला रही है। आगामी के लिए जहां आम पार्टी कमर कस रही है, तो वहीं ने भी अपनी चुनावी तैयारी पूरी कर ली है। ओवैसी की पार्टी कई चर्चित और बड़े चेहरों को चुनावी समर में उतारने का जतन कर रही है।
इसी कड़ी में असदुद्दीन ओवैसी पहुंचे और बाहुबली का समर्थन किया। ओवैसी ने कहा कि अतीक अहमद सिर्फ अकेले ही नहीं है, बल्कि उत्तरप्रदेश में हजारों अतीक अहमद है जो जेलों में सड़ रहे है। आजम खान जेल में हैं। मुख्तार अंसारी जेल है। बड़ी संख्या मुसलमान जेलों में बंद हैं। उन्होंने कहा कि वे फिरकापरस्त ताकतों को यूपी में हराएंगे।

प्रयागराज में असदुद्दीन ओवैसी ने मुजफ्फरनगर दंगे को याद करते हुए कहा कि जिन भाजपा के आरोपियों के पर मुकदमे हुए थे, उन्हें सरकार ने वापस ले लिया गया, इस पर मीडिया में कोई चर्चा नहीं हुई। सरकार नाथूराम गोडसे को आजाद भारत का पहला दहशतगर्द कहती है, लेकिन भारत की सियासत की ये तल्ख हकीकत है, जिस समाज का नेता होगा उसी समाज के मसलों को हल किया जाएगा।

ओवैसी उत्तर प्रदेश में इसीलिए आया है कि हमको (मुसलमानों) अपना हिस्सा लेना है। अपनी बात को स्पष्ट करते हुए ओवैसी बोले कि आपको कब मिलेगा, इसके लिए याद रखना होगा, जिस तरह से यदुवंशी अखिलेश को अपना नेता मानते है, जाटवों ने मायावती को अपना नेता माना, उसी तरह से ठाकुर योगी आदित्यनाथ को अपना नेता मानते हैं, कुर्मी अनुप्रिया पटेल को अपना नेता मानते हैं, वैसे ही ब्राह्मण और अन्य समाज के लोग मोदी को अपना नेता मानते हैं।

उत्तरप्रदेश में मुस्लिम समुदाय की कोई आवाज नहीं, इसलिए मेरे साथियों तुम याद रखो, कोई आसमान और जमीन से निकलकर आपको हक नहीं दिलायेगा, इसलिए आपको खुद अपने हालात को तब्दील करना होगा। हालात बदलने के लिए अगर आप एक करवट लेंगे, तो मुझे यकीन है उत्तरप्रदेश में इंकलाब पैदा होगा। ओवैसी ने प्रयागराज के मुस्लिम लोगों से कहा कि मैं वादा करता हूं, अल्लाह जब तक मुझे जिंदा रखेगा, उत्तरप्रदेश में एक इंकलाब पैदा होगा।

ओवैसी ने मेरठ में कुछ दिन पहले इस्लामिक स्कालर मौलाना कलीम सिद्दीकी को यूपी एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार किए जाने का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि लोगों के फोन आते है मौलाना कलीम के लिए, आप जानते हैं कि मौलाना कलीम सिद्दीकी कौन है, जिनको यूपी एटीएस ने अरेस्ट किया है? मुझे मौलाना कलीम की गिरफ्तारी के बाद से रोज व्हाट्‍ऐप, एसएमएस आते हैं और पूछा जाता है कि ओवैसी साहब कलीम पर आप कब बोलेंगे?

राजनीति हलकों में से कांग्रेस और सपा नेता का फोन आया, वे मुझसे कहते हैं कि ओवैसी भाई आप मौलाना कलीम पर कब बोलेंगे, मैंने भी पलटकर पूछ लिया कि राहुल गांधी और अखिलेश यादव इस बारे में कब बात करेंगे? ये लोग मौलाना पर बात नहीं करेंगे, क्योंकि फिर उन्हें हिंदू वोट नहीं मिलेगा।
ALSO READ:

संभल में असदुद्दीन ओवैसी के पोस्‍टर पर विवाद, लिखा गाजियों की धरती, BJP ने कहा- नहीं बदल सकता इतिहास
ओवैसी ने जनसभा में कहा कि मैं आपको नेता बनाने आया हूं, और पैगाम दे कर जा रहा हूं, की यह फसल काटने का वक्त है, न की बीज बोने का वक्त। पिछले 60 सालों से मुसलमानों को धोखा ही मिलता रहा है, अब धोखा नहीं खाना है, इसलिए संभल जाओ। न मोदी से डरना है, न योगी से डरना है, न अखिलेश से डरना है, न कांग्रेस से डरना है।

ओवैसी ने बढ़ती मंहगाई पर चिंता व्यक्त करते हुए रसोई गैस की बढ़ी कीमतों पर साधा निशाना है। वे बोले- ओबीसी ने मोदी को अपना वोट देकर पीएम बनाया है, लेकिन ओबीसी की जनगणना में शामिल नहीं किया जा रहा है। मोदी की सरकार ओबीसी को धोखा दे रही है, आगामी 2024 में हम मोदी को भी हराएंगे।
के लिए ओवैसी लगातार प्रदेश के दौरे पर हैं। जिसके लिए वे अयोध्या भी गए थे, जहां पर उनकी पार्टी द्वारा फैजाबाद नाम बोलने से हंगामा मच गया था। अब प्रयागराज का दौरा करते हुए चुनावी रैलियां की हैं। बाहुबली अतीक अहमद को पार्टी में शामिल करने पर बोले कि अतीक कानून की नजर में चुनाव लड़ सकते हैं। इसलिए आने वाले विधानसभा चुनाव में अतीक अहमद आपके वोट से जीत जरूर दिलाएंगे ताकि हमारी बहन-बेटियों की आंखों से आंसू गिरने कम हो जाएं।

ओवैसी ने धर्मांतरण कानून को भी गलत करार दिया है। इस कानून के तहत कोई मुसलमान और ईसाई होता है तो उसे बताना पड़ेगा बगैर किसी फ्रॉड के उसने धर्म परिवर्तन किया। योगी सरकार का यह कानून असंवैधानिक है।



और भी पढ़ें :