इन 5 महिला खिलाड़ियों को खासा पसंद करता है यंगिस्तान

Last Updated: मंगलवार, 8 मार्च 2022 (17:15 IST)
हमें फॉलो करें
पुरुष प्रधान समाज में महिला खिलाड़ियों को कम ही लोकप्रियता मिल पाती है। इसमें भी अगर महिला खिलाड़ी क्रिकेट जगत से नहीं जुड़ी हुई है तो उसे कभी कभार ही मीडियो कवरेज मिल पाता था।


हालांकि धीरे धीरे ही सही स्थिती बदल रही है। आज के उपलक्ष्य में नजर डालते हैं उन महिला खिलाड़ियों पर जो ना ही क्रिकेट से जुड़ी हुई है लेकिन लोकप्रियता के मामले में किसी से कम नहीं है। दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि आधुनिक युग में लोग उन्हें फोलो करते हैं।

1) पीवी सिंधु
रियो ओलंपिक्स 2016 में नोजोमी ओकोहारा को 21-19 और 21-10 से हराकर वह ओलंपिक फाइनल खेलने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनी।
हालांकि वह फाइनल में नंबर 1 रैंक पर काबिज कैलोरिना मारिन के हाथों स्वर्ण पदक का मैच हार गई लेकिन फिर भी रजत पदक जीतने में सफल हुई।

इसके बाद पीवी सिंधू की लोकप्रियता दिन दूगनी रात चौगनी बढ़ने लगी। उनपर इनामों की बरसात होने लगी। करीब 50 करोड़ के ब्रांड एंडोर्समेंट अब उनके पास हैं।वह आधुनिक युग की लड़कियों की रोल मोडल हैं।लेकिन सिंधु की उपलब्धियां यहां तक नहीं थी टोक्यो ओलंपिक 2020 में भले ही सोना जीतने का एक बेहतरीन अवसर उन्होंने खो दिया हो लेकिन कांस्य पदक जीतकर वह पहली महिला खिलाड़ी बनी जिसने ओलंपिक में 2 मेडल जीते हों।

2) सविता पुनिया

टोक्यो ओलंपिक्स में भारत की गोलकीपर सविता पुनिया को लगभग 1 साल पाल पहले कोई खास नहीं जानता था। लेकिन टोक्यो ओलंपिक में हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए क्वार्टर फाइनल मुकाबले के बाद पूरा देश उनका दीवाना हो गया। यह मैच भारत 1-0 से जीता था और लगभग 8 बार सविता ने ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम को गोल करने से रोका था। इस मैच के बाद कई लोग उनको दुर्गा भी कहने लग गए। इस मैच के बाद उनकी फैन फॉलोइंग खासी बढ़ गई। रानी रामपाल की गैर मौजूदगी में वह एफआईएच और चैंपियन्स ट्रॉफी में कप्तान बनी।

3) हिमा दास

साल 2018 से पहले अनजाना नाम था। आईएएएफ विश्व अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में महिला 400 मीटर फाइनल में स्वर्ण पदक जीतने वाली हिमा दास पहली भारतीय महिला बनीं। इसके बाद उनकी लोकप्रियता में बहुत इजाफा हुआ।

उस समय हिमा 18 साल की थी और 51 .46 सेकंड के समय के साथ स्वर्ण पदक जीत चुकी थी। इसके बाद हिमा आसाम की गोल्डन गर्ल बन गई और ट्रैक्स पर दौड़कर नए नए रिकॉर्ड अपने नाम करने लगी। जल्द ही उनके लिए स्पोर्ट शू बनाने वाली कंपनी एडिडास ने उनके जरूरत के हिसाब से जूता बनाया।
पिछले साल भारत की इस अनुभवी धाविका को असम की पुलिस उप अधीक्षक (डीएसपी) नियुक्त किया गया। असम सरकार ने इस महीने की शुरुआत में हिमा को डीएसपी के रूप में नियुक्त करने की घोषणा की थी। हालांकि हिमा टोक्यो ओलंपिक में क्वालिफाए नहीं कर पाई फिर भी उनकी फैन फॉलोइंग कम नहीं हुई।
4) दीपिका पल्लीकल


भारत की स्क्वैश खिलाड़ी भी खासी चर्चाओं में रहती है। कछ साल पहले उनकी शादी भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर दिनेश कार्तिक से हुई थी।बेहद खूबसूरत लगने वाली दीपिका इंस्टाग्राम पर भी काफी एक्टिव रहती है।
चेन्नई के एक मलयाली परिवार में जन्मी पल्लीकल को शोहरत तब हासिल हुई जब 2012 में स्कॉश की पीएसए रैंकिंग में वह टॉप 10 में शुमार रही। साल 2006 से स्कॉश खेलने वाली दीपिका का करियर उतार चढ़ाव भरा रहा उनको लय मिली साल 2011 में मिस्त्र के एक टूर्नामेंट में।

साल 2012 से 2015 तक उन्होंने टूर्नामेंट इस कारण नहीं खेले क्योंकि महिला खिलाड़ियों को पुरष खिलाड़ियों से 40 प्रतिशतक कम रकम मिलती थी। वह कुल 6 टूर्नामेंट की विजेता रही हैं। वह अब 2 जुड़वा बच्चों की मां बन चुकी है लेकिन फिर भी अपने खेल करियर के प्रति सजग है।

5) मणिका बत्रा


लॉन टेनिस की सानिया और बैडमिंटन की साइना के बीच हाल ही मेंं जो महिला खिलाड़ी टेबल टेनिस के कारण लोकप्रिय हुई है वह है मणिका बत्रा। भारतीय महिला खिलाड़ियों में मणिका पहली रैंक पर है।मणिका का पिछला साल कुछ विवादों में गया लेकिन कोर्ट के एक फैसले से उनकी छवि फैंस के सामने साफ सुथरी निकली।
दिल्ली में पली बढ़ी मणिका बत्रा ने 4 वर्ष की उम्र से ही टेबल टेनिस खेलना शुरु कर दिया था। मणिका बत्रा ने कॉमनवेल्थ गेम्स और दक्षिण एशियाई खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन किया और वह मीडिया में एक जाना माना नाम बन गई। खासकर 2018 में हमेशा से अविजित सिंगाुपर की दो खिलाड़ियों को हराकर उनकी लोकप्रियता खासी बढ गई। (वेबदुनिया डेस्क)



और भी पढ़ें :