स्पेनिश ग्रां प्री में विनेश और दिव्या ने जीता स्वर्ण, पूजा को मिला रजत

पुनः संशोधित रविवार, 7 जुलाई 2019 (22:27 IST)
हमें फॉलो करें
मैड्रिड। भारत की शीर्ष पहलवान ने वजन वर्ग बदलने के बाद दबदबे भरा प्रदर्शन करते हुए रविवार को यहां स्पेन ग्रां प्री में 53 किग्रा वर्ग में पहला जीता जबकि दिव्या काकरान ने 68 किग्रा वर्ग में शीर्ष स्थान हासिल किया। भारत ने दूसरे दिन कुल 6 पहलवानों को उतारा, जिसमें उसे 2 स्वर्ण और 4 मिले।

वर्ष 2020 तोक्यो ओलंपिक के लिए भारत की पदक दावेदारों में से एक विनेश नए वजन वर्ग में अपना तीसरा ही टूर्नामेंट खेल रही हैं।

विनेश ने 53 किग्रा में 8 पहलवानों के ड्रॉ में आसानी से पेरू की जस्टिना बेनिट्स और रूस की नीना मिनकेनोवा को हराया और फिर फाइनल में नीदरलैंड की प्रतिद्वंद्वी जेसिका ब्लास्का को पराजित किया।
जकार्ता एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता विनेश ने एशियाई चैम्पियनशिप और डान कोलोव में भाग लिया था, जिसमें उन्होंने इस टूर्नामेंट से पहले 53 किग्रा में कांस्य और रजत पदक जीता था।
एशियाई खेलों की कांस्य पदकधारी दिव्या ने अपने अभियान में महज चार अंक गंवाए। इस भारतीय पहलवान ने फाइनल में पोलैंड की एग्निस्का विस्जजेक कोरडस को पराजित किया।

विश्व चैम्पियनशिप की कांस्य पदकधारी पूजा ढांडा (57 किग्रा) को खिताबी भिड़ंत में रूस की वेरोनिका चुमिकोवा से हारकर रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

रजत पदक जीतने वाली पहलवानों में सीमा (50 किग्रा), मंजू कुमारी (59 किग्रा) और किरण (76 किग्रा) शामिल रही जो स्वर्ण पदक की बाउट में क्रमश: पोलैंड की इवोना मातकोवस्का, रूस की लियूबोव ओवचारोवा और केसनिना बुराकोवा से हार गई। भारत टीम चैम्पियनशिप में रूस (165) के बाद 130 अंक से दूसरे स्थान पर रही।

पदक विजेता भारतीय पहलवान
53 किलोग्राम में विनेश फोगाड : स्वर्ण पदक
68 किलोग्राम में
दिव्या काकरान : स्वर्ण पदक
50 किलोग्राम में सीमा : रजत पदक
57 किलोग्राम में पूजा ढांडा : रजत पदक
59 किलोग्राम में मंजू : रजत पदक
72 किलोग्राम में किरण : रजत पदक

भारत की एकमात्र ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक ने मामूली चोट के कारण प्रतियोगिता से एक दिन पहले अपनी भागीदारी वापस ले ली।



और भी पढ़ें :