खुद से ही आगे निकले नीरज चोपड़ा, बनाया जैवलिन थ्रो में नेशनल रिकॉर्ड (Video)

पावो नुर्मी खेलों में नीरज ने जीता रजत

Last Updated: शुक्रवार, 17 जून 2022 (14:23 IST)
हमें फॉलो करें
तुरक:के स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा ने मंगलवार को पावो नुर्मी खेलों में रजत पदक जीतते हुए जैवलीन थ्रो का नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड स्थापित किया।नीरज ने 89.3 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ पिछले साल मार्च में आयोजित इंडियन ग्रां प्री में बनाया अपना 88.07 मीटर का रिकॉर्ड तोड़ा।

यह उनका व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन होने के साथ-साथ इस वर्ष का अब तक का पांचवां सर्वश्रेष्ठ थ्रो है।
फ़िनलैंड के ओलिवर हेलेंडर ने 89.83 मीटर के व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता। ग्रेनाडा के मौजूदा विश्व चैंपियन एंडरसन पीटर्स ने 86.60 मीटर के साथ कांस्य पदक अपने नाम किया।
Koo App
sets new national javelin record at Paavo Nurmi Games in Finland; Sports Minister Anurag Thakur says absloutely thrilled - Prasar Bharati News Services (@pbns_india) 15 June 2022
पिछले साल अगस्त में हुए टोक्यो ओलंपिक के बाद नीरज पहली बार किसी प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे थे।
24 वर्षीय नीरज ने 86.92 मीटर के थ्रो के साथ शुरुआत की, और दूसरे प्रयास में 89.30 मीटर की दूरी पर भाला फेंका, जो उनके ओलंपिक प्रदर्शन (87.58) से भी बेहतर था।

नीरज अब तुरकू के बाद कुओरटाने खेलों में हिस्सा लेंगे, जिसके बाद वह डायमंड लीग के स्टॉकहोम लेग के लिये स्वीडन जाएंगे।पावो नुर्मी खेल विश्व एथलेटिक्स कॉन्टिनेंटल टूर का एक स्वर्ण आयोजन है। यह डायमंड लीग के बाहर सबसे बड़ी ट्रैक एंड फील्ड प्रतियोगिताओं में से एक है।

वापसी के बाद अपने प्रदर्शन से खुश हूं-नीरज चोपड़ा

टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद पहली स्पर्धा में अपना राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ने वाले भारत के स्टार भालाफेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने कहा कि वह खुश हैं और अपनी तकनीक पर और काम करना चाहते हैं।
उन्होंने कहा ,‘‘ मैं अपने प्रदर्शन से खुश हूं। यह सत्र में मेरा पहला टूर्नामेंट था और सत्र की अच्छी शुरूआत की खुशी है। इससे मेरा आत्मविश्वास बढा है।’’उन्होंने कहा ,‘‘ मैं अपनी तकनीक, थ्रो और कुल प्रदर्शन पर काम करना चाहता हूं। आने वाले टूर्नामेंटों में अच्छे प्रदर्शन पर नजरें होंगी।’’चोपड़ा ने कहा ,‘‘ अब अगले कुछ टूर्नामेंटों पर ध्यान है और राष्ट्रमंडल खेलों में भी कड़ी प्रतिस्पर्धा मिलेगी।’’



और भी पढ़ें :