कबड्डी के बाद अब खो-खो की लीग से मशहूर होगा देसी खेल, इस चैनल पर होगा प्रसारण

Last Updated: मंगलवार, 16 मार्च 2021 (00:18 IST)
नई दिल्ली:किसी ने सोचा नहीं था कि क्रिकेट के दीवाने देश में कबड्डी जैसा खेल को बेहतरीन व्यूअरशिप मिलेगी। अब कुछ ऐसा ही प्रयास खोखो में भी होने जा रहा है।
सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएनआई) ने भारत की पहली पेशेवर अल्टीमेट खो-खो के साथ टीवी और डिजिटल प्रसारण का एक एक्सक्लूसिव बहुवर्षीय करार किया है। इसके साथ ही कंपनी ने साबित किया कि वह भारतीय उपमहाद्वीप के दर्शकों को इस खेल का रोमांचक प्रसारण तेजी से उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

2021 से ही शुरु होने जा रही लीग का मकसद दर्शकों और खेल प्रेमियों को इस खेल से जोड़ना है। सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया और अल्टीमेट खो-खो इस देसी खेल को नये अवतार में सामने ला रहे हैं, जिसमें खेल तकनीक और नये नये प्रयोगों को शामिल किया गया है। लीग के धमाकेदार मुकाबले एसपीएनआई नेटवर्क के सभी चैनलों और उनके ओटीटी प्लेटफॉर्म सोनिलिव पर उपलब्ध होंगे और दर्शक अल्टीमेट खो-खो लीग के मुकाबलों का सीधा प्रसारण कहीं से भी देख सकेंगे।
डाबर ग्रुप के चेयरमैन और अल्टीमेट खो-खो के प्रमोटर अमित बर्मन ने कहा, “अल्टीमेट खो-खो देश के सबसे पुराने खेलों में से एक को आधुनिक अवतार में सामने लाएगा, जिसमें एक नया फॉर्मेट होगा और ये शानदार टीवी उत्पाद भी होगा। इसके जरिये ना सिर्फ खेल में नया दौर आएगा बल्कि दर्शकों को भी एक ऐसा बेहतरीन अनुभव मिलेगा जो अब से पहले कभी नहीं हुआ होगा।

भारत का पारंपरिक खेल खो-खो अपने आसान नियमों और तेजी की वजह से पूरे देश में काफी लोकप्रिय है। बर्मन ने भारतीय खो-खो महासंघ(केकेएफआई) से दीर्घकालिक व्यावसायिक प्रसारण अधिकार हासिल किये हैं और मिलकर खो-खो को बेहतर और भविष्य के लिहाज से प्रतिस्पर्धी बनाने के अभियान में जुटे हैं, ताकि इस खेल को नई बुलंदियों तक पहुंचाया जा सके।
सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया के चीफ रेवेन्यू ऑफिसर, डिस्ट्रिब्यूशन और स्पोर्ट्स बिजनेस के प्रमुख राजेश कौल ने कहा, “सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स में हमारा मकसद भारत में अलग-अलग खेलों की संस्कृति को बढ़ावा देना है और अल्टीमेट खो-खो के आने से हमारे खेल पोर्टफोलियो में एक शानदार खेल जुड़ गया है। खो-खो एक पारंपरिक भारतीय खेल है जो पूरे देश में लोकप्रिय है। हम बेहद उत्साहित है कि इस खेल के साथ जुड़े और अपने दर्शकों के सामने इसे प्रस्तुत करेंगे।”
प्रतियोगिता में पुरुषों की टीम हिस्सा लेगी जिसमें भारतीय खो-खो फेडरेशन के तहत आने वाले सभी राज्यों के खिलाड़ी और अंडर-18 युवा शामिल होंगे। इस साल के मध्य तक संभावित खिलाड़ियों के नाम तय कर लिए जाएंगे और फ्रेंचाइजी मालिकों के सामने 150 भारतीय खिलाड़ियों में से चुनने का विकल्प होगा। इन खिलाड़ियों को राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन और फरवरी 2021 में हुए उच्चस्तरीय ट्रेनिंग कैंप में मिले अंकों के आधार पर चुना जाएगा।
अल्टीमेट खो-खो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी तेनजिंग नियोगी ने भी कहा, “एक खेल को बड़े ब्रांड के तौर पर स्थापित करने के लिए इसमें ऐसा रोमांचक फॉर्मेट होना चाहिए जिसमें हर मिनट देखने लायक हो। अल्टीमेट खो-खो को शुरू करने का मकसद लोकप्रिय देसी खेल को नये जमाने की तकनीक और आधुनिक फॉर्मेट के साथ मिलाकर नये अंदाज में पेश करना है। हमारा मकसद नये चैंपियन खिलाड़ी तैयार करना, खेल के गर्व को बढ़ाना और खो-खो को नई कारोबारी बुलंदियों तक ले जाना है। सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया की भागीदारी में हमारा प्रयास एक बेहतरीन उत्पाद सामने लाना होगा, जो ना सिर्फ दर्शकों की उम्मीदों पर खरा उतरे बल्कि एक ऐसा मंच भी बने जहां बड़े ब्रांड अपने ग्राहकों के साथ जुड़ सकें। ”
अल्टीमेट खो-खो का प्रसारण अंग्रेजी और हिंदी मे किया जाएगा, वहीं क्षेत्रीय भाषाओं की कमेंट्री भी उपलब्ध कराने की योजना है। एसपीएनआई के पास चार समर्पित खेल चैनल हैं और ये अलग अलग खेलों से जुड़ा हुआ है। ये दुनिया की सबसे बेहतरीन खेल प्रतियोगिताओं का प्रसारण करते हैं जिनमें ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, पाकिस्तान, श्रीलंका, जिंबाब्वे और आयरलैंड क्रिकेट बोर्ड के मुकाबलों के साथ ही ये डब्ल्यू डब्ल्यू ई, यूएफसी, इंपैक्ट रेसलिंग, ऑस्ट्रेलियन ओपन, यूएफा चैंपियंस लीग, यूरोप लीग, नेशंस लीग और यूरो 2020 शामिल हैं। वहीं सीरिज ए, एफए कप और 2020 के टोक्यो ओलंपिक गेम्स से भी ये जुड़े रहे हैं।
विजेंदर ने नवम्बर 2019 में घाना के पूर्व राष्ट्रमंडल चैंपियन चार्ल्स अडामु को दुबई में हराकर अपनी 12वीं जीत दर्ज की थी।(वार्ता)



और भी पढ़ें :