0

शहीदों के सिरताज एवं शांति के पुंज थे गुरु अर्जुन देव जी

शुक्रवार,अप्रैल 22, 2022
0
1
पीएम नरेंद्र मोदी ने सिखों के नौंवें गुरु, गुरु तेगबहादुर के 400वें प्रकाश पर्व पर लालकिले पर आयोजित एक समारोह के दौरान बलिदान के प्रतीक गुरुद्वारा शीशगंज साहिब का उल्लेख करते हुए कहा कि उस समय देश में मजहबी कट्टरता की आंधी आई थी, जिन्होंने धर्म के ...
1
2
Ninth Sikh Guru सिख धर्म के नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर जी (Guru Teg bahadur) को कौन नहीं जानता। यहां जानिए उनके जीवन की 25 रोचक बातें...
2
3
इस वर्ष गुरु तेग बहादुर जी (Guru Tegh Bahadur) का प्रकाश पर्व 21 अप्रैल को मनाया जा रहा है। गुरु तेग बहादुर जी सिखों के नौवें गुरु थे। उन्होंने अपना समस्त जीवन मानवीय सांस्कृतिक विरासत की खातिर बलिदान किया था। उनके अनमोल वचन आज भी हमारे लिए बहुत ...
3
4
बैसाखी पर्व (Baisakhi festival 2022) सिख धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक माना जाता है। यह पंजाबी नववर्ष का प्रतीक भी है। इसे वैशाखी भी कहा जाता है। इस वर्ष बैसाखी पर्व 14 अप्रैल को मनाया जा रहा है।
4
4
5
प्रतिवर्ष भारतभर में लोहड़ी (Happy Lohri 2022) का पवित्र पर्व बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2022) के एक दिन पहले ही यह पर्व मनाया जाता है। नववर्ष आगमन के कुछ ही दिनों बाद पंजाबी समुदाय का यह खास लोहड़ी का त्योहार
5
6
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार लोहड़ी (Happy Lohri) को दुल्ला भट्टी (dulla bhatti) की एक कहानी (happy lohri story) से भी जोड़ा जाता है। लोहड़ी के सभी गाने दुल्ला भट्टी से ही जुड़े हैं तथा यह भी कह सकते हैं कि
6
7
गुरु गोविंद सिंह (Guru Govind Singh) जी सिखों के 10वें गुरु थे। उनका जन्म बिहार के पटना जिले में हुआ था। गुरु गोविंद जी ने खालासा पंथ (Khalsa Panth) की स्थापना की थी।
7
8
Guru Govind Singh Jee : धर्म, समाज देश की रक्षार्थ अपने अपना सबकुछ न्योछावर करने वाले 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह जो कार्य किया वह अतुलनीय और अकल्पनीय है। आओ जानते हैं गुरुजी की 10 खास विशेषताएं।
8
8
9
सिख धर्म के 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह ने धर्म की रक्षा के लिए जो कार्य किया उसे कोई भी नहीं भूला सकता है। उनका जन्म पौष माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को 1666 में हुआ था। अंग्रेजी माह के अनुसार इस बार उनकी जयंती 9 जनवरी 2022 को मनाई जाएगी। आओ जानते ...
9
10
वर्ष 2022 में 9 जनवरी को गुरु गोविंद सिंह (guru gobind singh) जी की जयंती (Birth anniversary) मनाई जाएगी। गुरु गोविंद सिंह जी सिखों के 10वें (10th Guru) गुरु हैं। पौष सुदी सप्तमी के दिन उनका जन्म हुआ था।
10
11
सिख धर्म के 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह ने धर्म की रक्षा के लिए जो कार्य किया उसे कोई भी नहीं भूला सकता है। गुरु गोविंद सिंह जी ने इसके अलावा सिख धर्म को एक स्थापित संगत बनाया और संपूर्ण देश में गुरुओं की परंपरा को आगे बढ़ाया। आओ जानते हैं उनके ...
11
12
सिख धर्म के दसवें (10th Guru) और अंतिम गुरु, गुरु गोविंद सिंह (Guru Gobind Singh) का जन्म पटना साहिब में हुआ था, उनकी याद में वहां एक खूबसूरत गुरुद्वारा बनाया गया है
12
13
गुरु तेग बहादुर सिंह guru teg bahadur को सिख धर्म में क्रांतिकारी युग पुरुष कहा जाता है। गुरु तेग बहादुर सिंह का जन्म पंजाब के अमृतसर में वैशाख कृष्ण पंचमी तिथि को हुआ था
13
14
आज सिखों के नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर सिंह जी (Guru Tegh Bahadur Quotes) का शहीदी दिवस मनाया जा रहा है। हर साल 24 नवंबर को उनकी शहादत को याद करते हुए शहीदी दिवस Shahidi diwas के रूप में मनाया जाता है।
14
15
सिख धर्म के नौंवें गुरु, गुरु तेग बहादुर सिंह (guru teg bahadur) एक क्रांतिकारी युग पुरुष थे। उन्होंने धर्म, मानवीय मूल्य, आदर्श तथा सिद्धांतों की रक्षा करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।
15
16
आज गुरु नानक देव जी (Guru Nanak Jayanti 2021) का प्रकाश पर्व है। प्रकाश पर्व या गुरु पर्व का सिख धर्म में बहुत महत्व है। प्रतिवर्ष कार्तिक महीने की पूर्णिमा तिथि के दिन सिख धर्म के संस्थापक गुरु, गुरु नानक देव की जयंती अथवा गुरु पूर्णिमा को ...
16
17
Guru Nanak Jayanti 2021 : कार्तिक पूर्णिमा के दिन सिख धर्म के प्रथम गुरु गुरु नानकदेव जी का प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है। भारतीय धर्म, दर्शन और समाज में गुरुजी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इस साल गुरु नानक जी की की 552वीं जयंती मनाई जा रही है। आओ ...
17
18
आज नानक जयंती है.....प्रधानमंत्री मोदी ने आज कृषि कानून वापिस लेने की घोषणा के बाद अंत में गुरु गोविन्द सिंह द्वारा रचित शबद देह सिवा बरु मोहि इहै पढ़ा.....देह सिवा बरु मोहि इहै गुरु गोविन्द सिंह द्वारा रचित दसम ग्रंथ के चण्डी चरितर में स्थित एक शबद ...
18
19
सिख धर्म के दस गुरुओं की कड़ी में प्रथम हैं गुरु नानकदेवजी। राएभोए की तलवंडी नामक स्थान में, कल्याणचंद (मेहता कालू या मेहता कालियान दास) नाम के एक हिन्दू किसान के घर गुरु नानकदेवजी का जन्म हुआ। उनकी माता का नाम तृप्ता था। तलवंडी को ही अब नानक के नाम ...
19
20
What is kartarpur corridor : गुरु नानक देव जी की जयंती से 3 दिन पहले पाकिस्तान में स्थित सिखों के सबसे पूजनीय तीर्थस्थलों तक जाने के लिए करतारपुर साहिब गलियारे को बुधवार से दोबारा खोला जाएगा। कोविड-19 के प्रकोप के बाद मार्च 2020 से यहां की यात्रा ...
20
21
19 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा के दिन सिख धर्म के संस्थापक गुरु, गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व Prakash Parv Guru Nanak Dev Ji या गुरु पर्व मनाया जाएगा। गुरु नानक देव जी का जन्म कार्तिक पूर्णिमा को पाकिस्तान में स्थित श्री ननकाना साहिब में हुआ था।
21
22
गुरु नानक देव जी के जीवन से जुड़े एक प्रसंग के अनुसार पुराने समय में एक राजा था, जो अपनी प्रजा को बहुत कष्ट देता था। वह राजा बहुत ही क्रूर था तथा दूसरों का धन लूट लेता था।
22
23
guru nanak Motivational Quotes हर वर्ष कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा को सिख धर्म के पहले गुरु, गुरु नानक देव की जयंती मनाई जाती है। जिसे गुरु पर्व या प्रकाश पर्व भी कहा जाता है।
23
24
शुक्रवार, 19 नवंबर को गुरु नानक देव की जयंती है। गुरु नानक देव सिखों के सबसे प्रसिद्ध गुरु और सिख धर्म के संस्थापक है। यहां पढ़ें उनके अमूल्य दोहे...
24
25
Guru Govind Singh सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोविंद सिंह जी के जीवन की 25 खास बातें, जो आपको भी जानना जरूरी है।
25
26

निहंग सिख कौन होते हैं, जानिए

शनिवार,अक्टूबर 16, 2021
निहंग सिखों का इस देश, धर्म और समाज में अतुलनीय योगदान रहा है। आओ जानते हैं कि कौन होते हैं निहंग सिख, क्या है उनका पहनाव, कार्य, इतिहास और अन्य सिखों से कैसे अलग है निहंग सिख, जानिए सब कुछ।
26
27
गुरु गोविंद सिंह एक विलक्षण क्रांतिकारी संत है। वे एक महान धर्मरक्षक, कवि तथा वीर योद्धा भी थे। वे सिख धर्म के दसवें गुरु, सिख खालसा सेना के संस्थापक एवं प्रथम सेनापति थे।
27
28
सिख धर्म के संस्थापक, महान दार्शनिक गुरु, गुरु नानक देव जी से आप सभी परिचित है। उन्होंने अपने अनुयायियों को जीवन की 10 सीख या शिक्षाएं दीं जो इस प्रकार हैं-
28
29
भारत में सिख पंथ का अपना एक पवित्र एवं अनुपम स्थान है सिखों के प्रथम गुरु, गुरुनानक देव सिख धर्म के प्रवर्तक हैं। उन्होंने अपने समय के भारतीय समाज में व्याप्त कुप्रथाओं, अंधविश्वासों, जर्जर रूढ़ियों और पाखंडों को दूर करते हुए प्रेम, सेवा, परिश्रम, ...
29
30
गुरु नानक देव सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरु है। उनका अवतरण संवत्‌ 1469 में कार्तिक पूर्णिमा के दिन माता तृप्ता देवी जी और पिता कालू खत्री जी के घर हुआ था।
30
31
22 september Guru nanak dev ji ki punyatithi : भारतीय संस्कृति में गुरु का महत्व आदिकाल से ही रहा है। सिख धर्म के दस गुरुओं की कड़ी में प्रथम हैं गुरु नानक। गुरु साहिबजी से परमात्मा तक, मोक्ष तक या आत्मज्ञान को प्राप्त करने के एक नए मार्ग की परंपरा ...
31
32
कहते हैं कि 27 अगस्त 1604 में अमृतसर के हरमंदिर साहिब में गुरु ग्रंथ साहिब की प्रतिस्थापना की गई थी। आओ जानते हैं इस संबंध में खास 5 बातें। हालांकि कुछ जगहों पर यह भी उल्लेख मिलता है कि ग्रंथ साहिब की स्थापना 16 अगस्त को हुई थी।
32