शुरुआती तेजी के बाद बाजार से रौनक हुई गायब, सेंसेक्स व निफ्टी ने गंवाई शुरुआती बढ़त

Last Updated: गुरुवार, 5 मई 2022 (18:43 IST)
हमें फॉलो करें
मुंबई। मुनाफा वसूली के चलते घरेलू शेयर बाजार गुरुवार को शुरुआती कारोबार में मिली बढ़त को बरकरार नहीं रख सके और अंत में लगभग सपाट बंद हुए। कारोबार के दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई 897.77 अंक या 1.61 प्रतिशत की छलांग लगाकर 56,566.80 पर पहुंच गया था। हालांकि इसने अपनी अधिकांश बढ़त गंवा दी और अंत में सिर्फ 33.20 अंक या 0.06 प्रतिशत बढ़कर 55,702.23 पर बंद हुआ। इसी तरह एनएसई निफ्टी 5.05 अंक या 0.03 फीसदी की मामूली तेजी के साथ 16,682.65 पर बंद हुआ।
ALSO READ:

Share Markets : आरबीआई ने रेपो रेट बढ़ाने से शेयर बाजार में कोहराम, सेंसेक्स 1,400 अंक लुढ़का

सेंसेक्स में टेक महिंद्रा, इंफोसिस, एचसीएल टेक्नालॉजीज, टाटा स्टील, विप्रो, आईटीसी, एचडीएफसी, टीसीएस, कोटक महिंद्रा बैंक और आईसीआईसीआई बैंक बढ़ने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर इंडसइंड बैंक, सन फार्मा, नेस्ले, अल्ट्राटेक सीमेंट, रिलायंस इंडस्ट्रीज, पॉवरग्रिड, बजाज फिनसर्व और टाइटन में गिरावट रही। अन्य एशियाई बाजारों में हांगकांग गिरकर बंद हुआ जबकि शंघाई में मामूली बढ़त थी। जापान और कोरिया के बाजार छुट्टियों के कारण बंद थे।
यूरोप में शेयर बाजार दोपहर के सत्र में बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे। फेडरल रिजर्व ने बुधवार को अपनी प्रधान अल्पकालिक ब्याज दर को आधा प्रतिशत बढ़ा दिया था। ऐसा तेजी से बढ़ती महंगाई को काबू में करने के लिए किया गया। रिलायंस सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख मितुल शाह ने कहा कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर बढ़ाने के संबंध में नरम रुख के संकेत देने के बाद अमेरिकी शेयर बाजारों में जोरदार तेजी आई।
भारतीय रिजर्व बैंक ने ने मुद्रास्फीति को काबू में करने के लिए प्रधान उधारी दर को बढ़ाकर 4.40 प्रतिशत कर दिया था जिसके बाद घरेलू शेयर बाजारों में बुधवार को गिरावट हुई। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.27 प्रतिशत बढ़कर 110.4 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर पहुंच गया। शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को शुद्ध रूप से 3,288.18 करोड़ रुपए के शेयर बेचे।



और भी पढ़ें :