0

आश्विन पूर्णिमा आज भी है, जानिए खास बातें

बुधवार,अक्टूबर 20, 2021
0
1
आश्विन मास की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इस साल शरद पूर्णिमा 19 अक्टूबर 2021, मंगलवार के दिन मनाई जाएगी।
1
2
आज शरद पूर्णिमा पर शिवलिंग का जल स्नान कराने के बाद पंचोपचार पूजा यानी सफेद चंदन, अक्षत, बिल्वपत्र, आंकडे के फूल व मिठाई का भोग लगाकर इस आसान शिव मंत्र का ध्यान कर जीवन में शुभ-लाभ की कामना करें... -
2
3
शरद पूर्णिमा पर आइए जानते हैं कुछ खास सरल उपाय साथ ही जानते हैं शरद पूर्णिमा की रात मां लक्ष्मी को मनाने का मंत्र और सौभाग्य का आशीर्वाद ...
3
4
श्रीकृष्ण-राधा के साथ समस्त प्राणियों को शरद पूर्णिमा का बेसब्री से इंतजार होता है। क्या देवता, क्या मनुष्य,क्या पशु-पक्षी, सभी साथ नृत्य कर रहे हैं, मधुर संगीत में। चंद्र देव पूरी 16 कलाओं के साथ इस रात सभी लोकों को तृप्त करते हैं। आकाश में ...
4
4
5
मां लक्ष्मी इस दिन विशेष प्रसन्न होती हैं क्योंकि मान्यतानुसार इस दिन समुद्र मंथन से वे अवतरित हुई थीं...इस दिन उनसे मनचाहा वरदान पाना आसान होता है। अत: शरद पूनम पर मां लक्ष्मी की आराधना अवश्य करें।
5
6
शुद्ध चांदनी बरसेगी आंगन में तब शरद पूनम की रात होगी...जानिए मुहूर्त... इस बार शरद पूर्णिमा 19 अक्टूबर 2021 को है।
6
7
शरद पूर्णिमा की रात एक अखंड दीपक जलाकर आप करोड़पति कैसे बन सकते हैं आइए जानते हैं
7
8
अग्नि पुराण के अनुसार जब ब्रह्मा जी ने सृष्टि रचने का विचार किया तो सबसे पहले अपने मानसिक संकल्प से मानस पुत्रों की रचना की। उनमें से एक मानस पुत्र ऋषि अत्रि का विवाह ऋषि कर्दम की कन्या अनुसुइया से हुआ जिससे दुर्वासा, दत्तात्रेय व सोम तीन पुत्र हुए। ...
8
8
9
19 अ‍क्टूबर 2021 को शरद पूर्णिमा का व्रत रखा जाएगा। 19 अक्टूबर शाम 7 बजकर 5 मिनट 43 सेकंड से पूर्णिमा तिथि प्रारंभ होकर 20 अक्टूबर को रात्रि 8 बजकर 28 मिनट और 57 सेकंड पर तिथि समाप्त होगी। आओ जानते हैं शरद पूर्णिमा की पूजा विधि।
9
10
19 अक्टूबर 2021 को शरद पूर्णिमा का व्रत रखा जाएगा। ऐसी मान्यता है कि यदि इस दिन यदि आपने 5 खास तरह के उपाय कर लिए तो आपके भाग्य खुल जाएंगे। आओ जानते हैं कि क्या है वे ज्योतिषी उपाय।
10
11
19 अक्टूबर 2021 मंगलवार को शरद पूर्णिमा का व्रत रखा जाएगा। शरद पूर्णिमा के दिन छत या गैलरी पर चंद्रमा के प्रकाश में चांदी के बर्तन में दूध को रखा जाता है। फिर उस दूध को भगवान को अर्पित करने के बाद पिया जाता है। आओ जानते हैं कि इसके 10 कारण।
11
12
19 और 20 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा का चंद्रमा अपने पूरे शबाब पर होगा। अमृत बरसेगा। इस अमृत को आप भी खीर बना कर ग्रहण करेंगे। क्या आप जानते हैं कि शरद पूर्णिमा के दिन आपको कर्ज से मुक्ति मिल सकती है कैसे आइए जानते हैं...
12
13
शरद पूर्णिमा को कोजागिरी पूर्णिमा व्रत और रास पूर्णिमा भी कहा जाता है... इस मौके पर आइए जानते हैं पौराणिक एवं प्रचलित कथा...
13
14
चांदनी रात में मध्यरात्रि 10 से1 2 बजे के बीच कम वस्त्रों में घूमने वाले व्यक्ति को ऊर्जा प्राप्त होती है। सोमचक्र, नक्षत्रीय चक्र और आश्विन के त्रिकोण के कारण शरद ऋतु से ऊर्जा का संग्रह होता है और बसंत में निग्रह होता है।
14
15
वर्ष में 24 पूर्णिमाएं होती हैं जिनमें से कार्तिक पूर्णिमा, माघ पूर्णिमा, शरद पूर्णिमा, गुरु पूर्णिमा, बुद्ध पूर्णिमा का महत्व ज्यादा है। इसमें भी शरद पूर्णिमा का चंद्रमा कुछ अलग ही तरह का दिखाई देता है। यह पूर्णिमा अश्विन मास में आती है। आओ जानते ...
15
16
न के अधिपति होने के कारण इन्हें शरद पूर्णिमा की रात मंत्र साधना द्वारा प्रसन्न करने का विधान बताया गया है। प्रस्तुत है मंत्र ...
16
17
19 अ‍क्टूबर 2021 को शरद पूर्णिमा का व्रत रखा जएगा। यह पूर्णिमा हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रतिवर्ष आश्विन माह में आती है। आओ जानते हैं व्रत और पूजा का शुभ मुहूर्त और कब होगा चंद्रोदय तथा कब से कब तरह रहेगी पूर्णिमा तिथि।
17
18
पौराणिक मान्यता के अनुसार, शरद पूर्णिमा के दिन माता लक्ष्मी जी का अवतरण हुआ था। जानिए 17 खास बातें...
18
19
महालक्ष्मी की कृपा से वैभव, सौभाग्य, आरोग्य, ऐश्वर्य, शील, विद्या, विनय, ओज, गाम्भीर्य और कान्ति मिलती है। आश्चर्यजनक रूप से असीम संपदा मिलती है।
19