महाराष्‍ट्र के टॉप 10 टूरिस्ट स्पॉट

elephanta caves
भारतीय राज्य महाराष्‍ट्र में देखने के लिए कई प्राकृतिक और तीर्थ स्थानों के साथ ही कई ऐतिहासिक स्थल भी मौजूद है। यहां देखने के लिए तो सैंकड़ों स्थल हैं परंतु आपके लिए हम लाएं हैं 10 ऐसे खास स्थान ( Top 10 tourist spots in maharashtra ), जहां घूमने के दौरान आप और भी कई स्थानों का दौरा कर सकते हैं।

1. माथेरान हिल स्टेशन ( Matheran hill station ) : यह हिल स्टेशन महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में स्थित है। इसे देश के सबसे छोटे हिल स्टेशन परंतु खूबसूरत हिल स्टेशन का दर्जा प्राप्त है। यहां देखने के लिए कई व्यू प्वाइंट, झीलें और पार्क हैं जिनमें मंकी प्वाइंट, लिटिल चॉक, चॉक पॉइण्ट, इको प्वाइंट, मनोरमा प्वाइंट, सनराइज और सनसेट प्वाइंट प्रमुख हैं। यहां झरने, झील और बादलों को देखने का मजा ही कुछ और है। बादलों से घिरे पहाड़ और पहाड़ों से गिरते झरनों को देखकर आप चकित रह जाएंगे। इन अद्भुत नजारों का आनंद अपने आप में ही बहुत रोमांच भरा है। राजयगढ़ में होने के कारण आप रायगढ़ का किला भी देख सकते हैं।
हिल स्टेशनों की बात करें तो यहां पर सतारा जिले में प्रसिद्ध हिल स्टेशन महाबलेश्वर ( Mahabaleshwar ) और पंचगनी ( Panchgani ), पुणे जिले में लोनावाला और खंडला (Khandala), अहमद नगर जिले में भंडारदरा (Bhandardara), लवासा ( Lavasa), ठाणे जिले में सूर्यमल (Suryamal), सोलापुर ( Solapur ), राजमाची (Rajmachi ), आदि कई खूबसूरत हिल स्टेशन हैं।

2. एलीफेंटा की गुफा ( Elephanta's Cave ) : मुंबई के समुद्र में मुंबई के गेट वे ऑफ इंडिया से लगभग 12 किलोमीटर दूर स्थित एक स्थल है, जो एलीफेंटा नाम से विश्वविख्यात है। कई हजार वर्षों पुरानी इन गुफाओं की संख्या 7 हैं जिनमें से सबसे महत्‍वपूर्ण है महेश मूर्ति गुफा। एलीफेंटा की गुफाओं को दो हिस्सों में बांटा जा सकता है। पहले हिस्से में पांच बड़ी हिन्दू गुफाएं और जबकि दो छोटी गुफाएं पर बौद्ध धर्म की छाप है। यहां पहाड़ को काटकर बनाई गई इन सुंदर और रहस्यमय गुफाओं को देखना अद्भुत है। मुंबई घूमने के बाद मुंबई से स्टीमर या जहाज के द्वारा आप यहां पहुंच सकते हैं।
3. अजंता ऐलोरा की गुफाएं ( ajanta leni ellora caves ) : महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर के समीप स्थित‍ अजंता-एलोरा की गुफाएं बड़ी-बड़ी चट्टानों को काटकर बनाई गई हैं। 29 गुफाएं अजंता में तथा 34 गुफाएं एलोरा में हैं। अब इन गुफाओं को वर्ल्ड हेरिटेज के रूप में संरक्षित किया जा रहा है। अजंता की गुफाओं में 200 ईसा पूर्व से 650 ईसा पश्चात तक के बौद्ध धर्म का चित्रण किया गया है। एलोरा की गुफाओं में हिंदू, जैन और बौद्ध तीन धर्मों के प्रति दर्शाई आस्था का त्रिवेणी संगम का प्रभाव देखने को मिलता है। ये गुफाएं 350 से 700 ईसा पश्चात के दौरान अस्तित्व में आईं। आर्कियोलॉजिकल और जियोलॉजिस्ट की रिसर्च से यह पता चला कि इन गुफाओं को कोई आम इंसान या आज की आधुनिक तकनीक नहीं बना सकती। यहां एक ऐसी सुरंग है, जो इसे अंडरग्राउंड शहर में ले जाती है। महाराष्ट्र के औरंगबाद जिले में ही पीतलखोरा की गुफाएं भी प्रसिद्ध है।
4. नासिक ( Nashik ) : यह महाराष्ट्र की धार्मिक और कुंभ नगरी है। गोदावरी के तट पर बसा यह नगर बहुत ही खुबसूरत है। इसी नगर के पास है 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक त्र्यंबकेश्वर शिवलिंग, जहां पर काल सर्पदोष और पितृदोष से मुक्ति का अनुष्‍ठान होते हैं। दोनों ही जगहों पर घुमने लायक बहुत सारे स्थान हैं।
Tiger
5. ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान ( Tadoba National Park ) : महाराष्ट्र में यूं तो कई जंगल है परंतु ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान अपनी प्राकृतिक विरासत के लिए जाना जाता है। यह भारत के मोस्ट टाइगर रिजर्व में से एक है, जहां पर सबसे ज्यादा अधिख शेर दिखाई देते हैं। यह जंगल चंद्रपुर जिले में स्थित है। इस क्षेत्र में वनस्पतियों और जीवों की दुर्लभ प्रजातियां पाई जाती है।
6. अलीबाग ( Alibag ) : अलीबाग महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में बसा एक छोटा सा तटीय शहर है जिसे ‘मिनी-गोवा’ के नाम से भी जाना जाता है। अलीबाग मुंबई से लगभग 110 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर आप रेतीले समुद्र तट और कई मंदिर एवं किलों को देख सकते हो।

7. रत्नागिरी ( Ratnagiri ) : महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में समुद्र, जंगल, मंदिर, स्मारक, दुर्ग किला, हिल स्टेशन आदि सबकुछ है। रत्नागिरी जिला महाराष्ट्र के कोंकण डिवीजन का हिस्सा है। रत्नागिरी के पास चिपलून शहर ( Chiplun ) है, जो अपनी खूबसूरत झील के लिए प्रसिद्ध है। यहां सफेद रेत के समुद्री तटों का आनंद में उठाया जा सकता है।

8. कोलाड ( Kolad ) : कुंडलिका नदी के तट पर स्थित कोलाड यह मुंबई से 117 किमी दूर रायगढ़ जिले में स्थित है। यह स्थान व्हाइट वाटर राफ्टिंग के लिए प्रसिद्ध है। अपने झरने, हरी घास के मैदान और सह्याद्रिस की सुरम्य पहाड़ियों के लिए प्रसिद्ध कोलाड में राफ्टिंग, रैपलिंग और कयाकिंग के साथ ही कई साहसिक खेलों का मजा लिया जा सकता है।
9. तारकरली ( Tarkarli ) : तारकरली एक खूबसूरत समुद्र तटीय पर्यटन स्थल है, जहां 'स्कूबा डाइविंग' का मजा लिया जा सकता है। महाराष्ट्र के सिंधुदूर्ग जिले में स्थित यह अपने लंबे तट के लिए भी प्रसिद्ध है। यहां नौकायन कर सकते हो, डॉल्फिन देख सकते हो, कायाकिंग, केले की नाव की सवाली, जेट स्कीइंग आदि कई साहसिक कार्य कर सकते हो।

10. लोणार झील ( Lonar Lake ) : महाराष्ट्र के बुलढाना जिले में स्थित लोनार नामक जगह पर एक झील है जिसे लोणार सरोवर कहते हैं। यह झील लगभग 5 लाख 70 हजार वर्ष पुरानी है। इसकी गहराई करीब 150 मीटर बताई जाती है और इसका व्यास 1.2 किलोमीटर है। इस खूबसूरत झील को देखने के लिए देश दुनिया के लोग आते हैं क्योंकि यह एक उल्लापिंड के गिरने से बनी थी।



और भी पढ़ें :